निर्दलीय विधायक राजकुमार शर्मा का त्यागपत्र अस्वीकार

राजस्थान में डाक्टरों की हड़ताल के कारण कई लोगों की मौत के विरोध में निर्दलीय विधायक राजकुमार शर्मा ने 1 जनवरी 2018 को विधायकी से इस्तीफा दे दिया। राजकुमार ने इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल को सौंपा। राजकुमार शर्मा ने कहा कि डॉक्टरों की हड़ताल समय से खत्म करा पाने में सरकार नाकाम रही है। स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ को अपना इस्तीफा देना चाहिए था या फिर सरकार को उन्हें बर्खास्त करना चाहिए था। दोनों में से कुछ भी नहीं किया गया। ऐसे में मैं पूरे प्रकरण से आहत होकर विधानसभा की सदस्यता से त्याग पत्र दे रहा हूं। शर्मा ने आरोप लगाया की डॉक्टरों की हड़ताल को भड़काने का काम सरकार ने ही किया। इसके कारण सैकडों लोगों की जान गई। जो हड़ताल शुरू में ही खत्म हो जाती उसे 12 दिन चलाया गया। मंत्री ने डॉक्टर्स के जानबूझ कर तबादले किए गए जिससे डाक्टर भड़के। हुआ भी कुछ ऐसा, जिसके कारण मरीजों की जानें चली गईं। राज्य के लिए यह बेहद दुर्भाग्य है कि प्रदेश सरकार जनता के प्रति संवेदनशील नहीं है।
विधानसभा अध्यक्ष श्री कैलाश मेघवाल ने 2 जनवरी को नवलगढ़ विधानसभा क्षेत्र के निर्दलीय विधायक डॉ. राजकुमार शर्मा के राजस्थान विधानसभा की सदस्यता से दिये गए त्यागपत्र को अस्वीकार कर दिया है। विधानसभा सचिव श्री पृथ्वी राज ने बताया कि डॉ. शर्मा ने सोमवार को विधानसभा अध्यक्ष को अपना त्यागपत्र सौंपा था जिसे अस्वीकार कर दिया गया है।