Maheshwari Chauhan wins bronze at Asian Shotgun Championship

Shooter Maheshwari Chauhan clinched a bronze medal in the women's skeet event of the Asian Shotgun Championship in Astana, Kazakhstan, last evening. The 21-year-old shot 40 in the finals to hand India its first women's skeet individual medal at a top international competition in Astana. Maheshwari made it to the knockouts by topping the qualification round with a score of 6875 on 11th August. 
She led a group of six shooters into the final round. Among them was teammate Rashmmi Rathore who qualified sixth with a score of 64. It was a quality top six in the final rounds having the likes of Olympic finalists and World Cup Gold medalists Meng Wei of China and Sutiya Jiewchaloemmit of Thailand among others. Meng is currently ranked four in the world while Sutiya is ranked fifth.
Maheshwari Chauhan is from Jalore district of Rajasthan and we are pround of her success

सांवरलाल जाट - किसान परिवारों ने अपना बेटा खो दिया

प्रो सांवरलाल जाट असल मायने में गुदड़ी के लाल थे। राजस्थान के एक साधारण किसान परिवार में जन्में सांवरलाल ग्रामीणों, गरीबों एवं किसानों के सच्चे मसीहा ही नहीं, भारतीय राजनीती में अपने सादे जीवन और जमीन से जुड़े होने के कारण एक श्रेष्ठ मिसाल थे। सांवरलाल जाट एक बहुत साफ़गो इंसान थे, एक किसान और ज़मीन से जुड़े नेता। उन्हें बेईमान राजनेताओं जैसी धूर्त हसीं एवं बेईमानी भरी चालाक भाषा नहीं आती थी। प्रोफेसर सांवरलाल जाट ने जीवन की शुरुआत बतौर कॉलेज व्याख्याता के रूप में की। मौजूदा फ़ेसबुक, ट्विटर, सूट-बूट एवं लेनिन के कड़क सफ़ेदी लिए महंगे वस्त्रों  वाले नेताओं के बीच बिना किसी सूट-बूट या डिज़ाइनर राजस्थानी वर्दी के सांवरलाल जाट ठेठ राजस्थानी ग्रामीण धोती साफे में रहने वाले गुदड़ी के लाल सही मायनों में आजीवन एक आम किसान ही थे। वे विश्वविद्यालय के प्रोफेसर थे, लेकिन एक किसान की तरह जिए और ऐसे ही राजनीति की। वे कभी चबा-चबाकर नहीं बोले एवं यही उनके जीने की शैली रही।
सांवरलाल जाट का राजनीतिक सफर
साँवरलाल जाट का जन्म 1 जनवरी 1955 को राजस्थान के अजमेर जिले के गोपालपुरा गाँव में हुआ था। उन्होंने वाणिज्य में स्नातकोत्तर करने के बाद राजस्थान विश्वविद्यालय में शिक्षक का कार्य भी किया था। वे सोहलवीं लोकसभा में अजमेर लोकसभा संसदीय क्षेत्र से भाजपा के सांसद थे। 20 दिसम्बर 2013 को उन्होंने राजस्थान के केन्द्रिय मंत्री की शपथ ग्रहण की। सांवर लाल का निधन 9 अगस्त 2017 को राजधानी दिल्ली में एक अस्पताल में हो गया। जब सांवरलाल जाट केंद्र में चमचमाते मोदी सरकार के मंत्रिमंडल से हटाए और वसुन्धरा सरकार ने उन्हें राजस्थान किसान आयोग का अध्यक्ष बनाया, तब उन्होने किसान आयोग को असल में किसानों की जगह बनाई अन्यथा यह केवल सरकारी बाबुओं का एक किसान प्रवेश निषेध कार्यालय ही बनकर रह गया था। सांवरलाल जाट के नवीन राजस्थान किसान आयोग दफ्तर की फिजा ही अलग थी यहाँ आप साफा पहने हुए किसान भी आसानी से देख सकते थे जिनमें हर कौम के किसान थे। अब शायद राजस्थान किसान आयोग फिर से ग्रामीण किसानों की पहुँच से दूर हो जाये तो कोई नई बात नहीं होगी।
किसान परिवारों ने अपना बेटा खो दिया
राजस्थान के किसान परिवारों ने निश्चित ही सांवरलाल जाट के रूप में अपना एक बेटा खो दिया। पूर्व केंद्रीय मंत्री, राजस्थान किसान आयोग के अध्यक्ष व सांसद श्री सावंरलाल जाट के निधन के साथ ही राजस्थान के किसानों की एक आवाज सदा के लिए बंद हो गयी। अगर सावंरलाल जी जाट के परिवार जनों के बाद आज सबसे अधिक क्षुब्ध है तो वो हैं, राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रों के किसान जिनका सरकार के साथ एक संवाद पुल ख़त्म हो गया। सावंरलाल जाट दलगत राजनीती से परे सदैव किसानों एवं ग्रामीणों के हितेषी रहे है। सावंरलाल जाट की जयपुर से गोपालपुरा, अजमेर के बीच श्रद्धांजलि सभा में उमड़ा किसानों एवं ग्रामीणों का जनसमूह उनके प्रति अपनेपन एवं प्यार का सबूत है। अजमेर संभाग के ग्रामीण क्षेत्र में 9 अगस्त को अचानक सुबह-सुबह सभी टीवी खोलते नज़र आये हमने में सही जानकारी के लिए टीवी खोला लेकिन वहां बीजेपी-कांग्रेस की गुजरात राज्यसभा के लिए खरीद-फरोख्त खबरें ही सरपट दौड़ रही थी, कुछ समय बाद शायद कोई प्रेस विज्ञप्ति के बाद ब्रेकिंग न्यूज चली लेकिन गावों में किसानों को आधे घंटे पहले ही पता चल गया था कि आज किसान परिवारों ने अपना एक बेटा खो दिया है या यूँ कहें राजस्थान की राजनीति में किसान राजनीति का अंतिम जिम्मेदार योद्धा अब नहीं रहा। 
दलित राजनीती की नई डगर 
एक सबसे बड़ी सीख अगर भाजपा एवं अन्य पार्टियों के नेताओं एवं आलाकमान को सांवरलाल जाट से लेनी हो तो वो है दलित राजनीती, जिसे राजनीतिक पार्टियां केवल नारों एवं जुमलों से साधने का प्रयास कर रही है। सांवरलाल जाट का एक प्रमुख वोट बैंक था दलित समाज जिसके वे बिना किसी नारे के सबसे नज़दीक थे या यों कहे उनके प्रमुख विश्वासपात्र दलित समाज के मित्र एवं कार्यकर्त्ता ही थे। अगर किसी राजनेता को सही मायने में दलित समाज का भला करना है तो वो फोटो-सैशन, जुमलों एवं बाबासाहेब अम्बेडर जी के गुणगान करके नहीं दलित समाज के साथ आत्मीयता के सम्बन्ध बनाने एवं साथ चलने से होता है। वे एक जाट थे एवं 36 कौम के सर्वमान्य नेता थे।  यह हरयाणा बीजेपी के कुछ संकीर्ण मानसिकता के साथ 35 कौम के नारे देने वाले छुटभैये नेताओं के लिए एक सीख भी है। 
राजनेताओं को सीख 
वे एक सज्जन और स्पष्टवादी इनसान थे साथ ही सरल व्यव्हार एवं साफ़गोई से बात रखने वाले राजनेता थे। वे अहम् मुद्दों पर आजकल के शातिर राजनेताओं की तरह धूर्तता से झूठ बोलने, भ्रामक प्रचार एवं सवालों से कन्नी काटकर बचने वाले राजनेताओं की तरह नहीं थे, आप उनसे जब चाहे मिल सकते थे एवं एक सच्चा जवाब पा सकते थे। जाति, धर्म एवं सांप्रदायिक ताकतें सांवरलाल जाट से स्वतः ही खौफ खाते थे, वे सही मायने में सबका साथ, सबका विकास को बिना किस जुमले एवं प्रचार के जीवन में अपनाने वाले व्यक्ति थे। अपने 30 साल से अधिक के राजनीतिक सफर में वे एक सच्चे एवं ईमानदार राजनेता थे, वरना आजकल तो छुटभैये नेता भी सफेदपोश बन अवैध खनन, जमीन हड़पना, कब्जे करना एवं धार्मिक वैर-वैमन्य फैलाना सरीखे कार्यों को राजनीती की पहली सीढ़ी समझते हैं जो निश्चित ही निंदनीय हैं एवं राजनेताओं को जनता से दूर ले जा रही है। आशा करते हैं, इस माटी के लाल सांवरलाल से सभी राजनेता कुछ सबक लेंगें। 

प्रो. सांवरलाल जाट का अंतिम संस्कार मुख्यमंत्री ने प्रो. जाट को दी अंतिम विदाई

मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे, केन्द्र व राज्य के कई मंत्रियों तथा हजारों लोगों ने गुरूवार को नम आंखों से पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं राज्य किसान आयोग के अध्यक्ष प्रो. सांवरलाल जाट को अंतिम विदाई दी। प्रो. जाट के पैतृृक गांव अजमेर के गोपालपुरा में राजकीय सम्मान के साथ उनकी अंत्येष्टि की गई। उनका बुधवार को नई दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया था। श्रीमती राजे ने प्रो. जाट के परिजनों से मुलाकात कर उन्हें सांत्वना दी और दु:ख की इस घड़ी में उन्हें सम्बल प्रदान करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की। इससे पहले मुख्यमंत्री ने प्रो. जाट के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित किया। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की ओर से राज्यसभा सांसद श्री भूपेन्द्र यादव ने पुष्पचक्र अर्पित किया।
किसान नेता के रूप में विख्यात रहे प्रो. जाट का पार्थिव शरीर गुरूवार को जयपुर से उनके पैतृक गांव गोपालपुरा लाया गया था। इस बीच रास्ते में दर्जनों स्थानों पर जन समूह ने अपने प्रिय नेता के अंतिम दर्शन कर उन्हें विदाई दी। गोपालपुरा में उनके निवास पर धार्मिक रीति रिवाज के बाद पार्थिव शरीर को गांव में ही श्मशान स्थल पर लाया गया। जहां हजारों लोगों ने सांवरलाल अमर रहे,  जब तक सूरज चांद रहेगा, सांवरलाल तेरा नाम रहेगा, अजमेर का एक ही लाल सांवरलाल-सांवरलाल जैसे नारों के साथ उन्हें अंतिम विदाई दी। प्रो. जाट के पार्थिव शरीर को उनके पुत्र कैलाश और रामस्वरूप सहित अन्य परिजनों ने मुखाग्नि दी। मुख्यमंत्री श्रीमती राजे ने गोपालपुरा पहुंचकर प्रो. जाट की धर्मपत्नी श्रीमती नर्बदा देवी से मुलाकात की और उन्हें सांत्वना दी। 

Former Union minister Sanwarlal Jat passes away at 62

Sanwar Lal Jat (62), former Union Minister and BJP MP from Ajmer, passed away at 6.15 a.m. on Wednesday at the All India Institute of Medical Sciences (AIIMS) in New Delhi, a senior official of the hospital said. According to doctors at the AIIMS, Mr. Jat had a cardiac arrest, which caused a damage to his brain and he was on ventilator. Mr. Jat had served as Minister of State for Water Resources in the Narendra Modi government.
Prime Minister Modi condoled with the passing away of the leader. “Anguished by the demise of MP & former Union Minister, Shri Sanwar Lal Jat. This is a big loss for the BJP & the nation. My condolences,” he tweeted. Mr. Modi also said Mr. Jat worked extensively for the wellbeing of villages and farmers. The BJP MP collapsed during a meeting chaired by party president Amit Shah in Jaipur last month. He was admitted to the Intensive Care Unit (ICU) of Sawai Man Singh Hospital there and later airlifted to the AIIMS.

फेस्टिवल ऑफ एजूकेशन 2018 उदयपुर में होगा

आगामी फेस्टिवल ऑफ एजूकेशन अगले वर्ष 2018 में उदयपुर में आयोजित किया जायेगा।  शिक्षा मंत्री श्री वासुदेव देवनानी ने फेस्टिवल ऑफ एजूकेशन के विभिन्न सत्रों में हुये संवाद में अन्य देशों से आये प्रतिभागियों जनप्रतिनिधियों, शिक्षाविदों एवं गणमान्य जनों का आभार जताते हुए कहा कि इस उत्सव के दूरगामी परिणाम आयेंगे। 
उन्होंने कहा कि राजस्थान देश का पहला राज्य है जिसने शिक्षा से जुड़े इस ग्लोबल उत्सव की पहल की है। श्री देवनानी ने मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे की दूरदर्शी सोच की सराहना करते हुए कहा कि बदलते हुए दौर में राजस्थान शिक्षा क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ेगा। 

Rahul Gandhi visit flood-hit Jalore in Rajasthan

Congress vice president Rahul Gandhi on Friday met people in Rajasthan’s flood-hit areas and claimed that the relief efforts of the state government had not reached all the affected places. Gandhi conducted an aerial survey of the affected areas in Barmer, Jalore, Sirohi and Pali and met people in Dedwa, Dawal, Amli, Hadecha and Kachel villages, whom he assured all help. The government’s responsibility was to provide succour to the people but there were no proper relief at some places, the Congress vice president said, in an apparent attack on the BJP-led state government, in Jalore. Normal life in Jalore, Pali and Sirohi districts has been badly affected due to heavy downpour.
Several shelter camps have been set up by the district administration and other social organisations in Jalore and Barmer where food and water are being supplied The Congress leader is accompanied by PCC president Sachin Pilot, former chief minister Ashok Gehlot and other leaders and party workers. 

Rajasthan CM visits flood-affected Regions

Chief Minister Smt. Vasundhara Raje has said that the state government would plan and propose permanent solution to reduce damages due to floods in the affected regions. She said that in certain districts there were regions with frequent tendency of floods keeping life out gear and causing damages to the property. A permanent solution would be provided to save regions, she said talking to journalists in Jalore and Sirohi on Monday. Smt. Raje said that soon after assessing the flood-like situation in districts with heavy rains, she dispatched the in-charge ministers and secretaries to affected regions. They were continuously meeting the flood-victims and helping in relief and rescue operations. 
The CM said that the local district administration, police, NDRF, SDRF, Army, CRPF and Homeguards were carrying out day and night relief and rescue works with full cooperation to each other. From wherever any information was received for persons trapped in flood waters or with no food and other essentials, the relief workers were responding promptly to help them. Till date, helicopters of Indian Air Force had saved 42 lives, while more than 11,000 persons were taken to safe places across the state.  During a review of flood situation and relief works, Chief Minister directed the officials to distribute food items and other essentials of civil supplies in the 'offline' mode without POS machines.

अजीत सिंह शेखावत बने राजस्थान के नए पुलिस महानिदेशक (DGP)

अजीत सिंह शेखावत 31 जुलाई को राजस्थान के नए पुलिस महानिदेशक (DGP) बने हैं। इस पद के लिए ये सरकार की पहली पसंद थे। हालांकि, इसी नवंबर को रिटायर हो रहे हैं। सोमवार को मनोज भट्ट रिटायर हुए तो शाम तक सरकार ने प्रदेश की पुलिस को नया मुखिया दे दिया।  नए डीजीपी के लिए डीजी जेल अजीत सिंह, सुधीर प्रताप सिंह, ओपी गल्होत्रा के नाम चर्चा में थे। डीजीपी जेल अजीत सिंह शेखावत इससे पहले डीजी जेल थे। अजीत सिंह 1982 बैच के हैं अधिकारी हैं। इससे पहले कहा जा रहा था कि राजपूत कम्युनिटी में भाजपा को लेकर नाराजगी है, उस नाराजगी को दूर करने और राजनीतिक लाभ के लिए अजीत सिंह शेखावत को मौका दिया जा सकता है औऱ अब उन्हें डीजीपी बना दिया गया।
वर्तमान महानिदेशक पुलिस श्री मनोज भट्ट भी 31 जुलाई को सेवानिवृत्त हुए, इस अवसर पर पुलिस मुख्यालय में आयोजित भव्य समारोह में परम्परागत रस्म अदा करते हुए पुलिस अधिकारियों एवं जवानों ने उनकी कार को रस्सों से खींचकर भावभीनी विदाई दी।  पुलिस महानिदेशक ने अपने विदाई समारोह में उपस्थित पुलिस अधिकारियों एवं कार्मिकों को संबोधित करते हुए कहा कि राजस्थान पुलिस पर देश प्रदेश की आंतरिक सुरक्षा की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है। मुझे गर्व है कि पुलिस महानिदेशक के पद पर रहते हुए मैंने अपने दायित्वों को पूरी जिम्मेदारी के साथ निभाने का प्रयास किया।  उन्होंने अपनी 36 साल की सेवाकाल के अनुभव साझा करते हुए बताया कि पुलिस विभाग के सभी अधिकारियों ने मेरे साथ हमेशा दोस्ताना एवं सहयोगात्मक व्यवहार निभाया है,इसके लिये मै उनका हद्य से आभारी हूॅं। उन्होंने राजस्थान पुलिस के इतिहास और परम्परा को गौरवशाली बताया। 

ग्राम सेवक भर्ती में सफल अभ्यर्थियों के मूल प्रमाण पत्रों की जांच 8 अगस्त से

ग्राम सेवक एवं पंचायत सचिव सीधी भर्ती प्रतियोगी परीक्षा-2016  में अस्थायी रूप से सफल घोषित अभ्यार्थियों के मूल प्रमाण पत्रों की जांच 8 से 18 अगस्त, 2017 तक प्रातः 10 बजे से सांय 5 बजे तक इन्दिरा गांधी पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास संस्थान, जे.एल.एन. मार्ग, जयपुर में होगी। 
ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के अतिरिक्त, आयुक्त श्री राजेन्द्र शेखर मक्कड़ ने बताया कि उक्त परीक्षा में सफल घोषित अभ्यार्थी को स्वयं उपस्थित होकर अपने दस्तावेजों का सत्यापन करवाना होगा । उन्होंने बताया कि इस संबंध में सम्पूर्ण जानकारी पंचायती राज विभाग की वेबसाईट ww.rajpanchayat.rajasthan.gov.in तथा राजस्थान अधीनस्थ एवं मंत्रालयिक सेवा चयन बोर्ड, जयपुर की वेबसाईट www.rsmssb.rajasthan.gov.in पर देख सकते हैं।

सांसद सांवरलाल जाट को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली के AIIMS अस्पताल भेजा

27 जुलाई: राज्य किसान आयोग के अध्यक्ष और अजमेर सांसद श्री सांवरलाल जाट को आज को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली के एम्स हॉस्पीटल के लिए रवाना किया गया। सवाईमानसिंह अस्पताल के अधीक्षक डॉ. डी.एस. मीना ने बताया कि श्री जाट को गुरूवार की दोपहर सवाई मानसिंह अस्पताल से ग्रीन कोरिडोर बनाकर महज 10 मिनट में स्टेट हैंगर लाया गया। यहां से उन्हें दोपहर 1.30 बजे रेलीगेयर की एयर एंबुलेंस के जरिए दिल्ली भेजा गया। उनके साथ उनकी बेटी डॉक्टर सुमन और चिकित्सकों का एक दल भी गया है। 
इससे पहले बुधवार काे कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट व नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी ने एसएमएस जाकर डॉक्टर्स से जाट के स्वास्थ्य की जानकारी ली। इस दौरान वे एसएमएस में भर्ती विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल से मिले और कुशलक्षेम पूछी। पायलट ने जाट के जल्द स्वस्थ होने की कामना की। 

कमांडो सोहन सिंह स्वस्थ होकर जयपुर लौटे

गैंगस्टर आनंदपाल को गोली मारने वाले जाबांज कमांडो सोहन सिंह हालत में सुधार होने के बाद आज शाम जयपुर लौट आए है। सोहन सिंह का गुडगांव के मेदांता हॉस्पिटल में इलाज चल रहा था, जहां उनकी तबीयत में सुधार आने के बाद आज उन्हें जयपुर के फोर्टिस अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। करीब 14 दिनों तक एसएमएस अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान सोहन सिंह के सेप्टिसिमिया और फेंफडों में इंफेक्शन फैलने से तबीयत गंभीर बिगड़ गई। तब सोहन सिंह को एयर एंबुलेंस की मदद से गुड़गांव स्थित मेदांता अस्पताल भेजा गया था।
गौरतलब है कि 24 जून को चुरू जिले के मालासर में एक घर की छत से जब गैंगस्टर आनंदपाल एके 47 राईफल से जब गोलियां बरसा रहा था, तब राजस्थान पुलिस की इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम के कमांडो सोहन सिंह ने बहादुरी दिखाई।इस एनकाउंटर में शामिल पुलिस अफसरों का कहना है कि अगर सोहनसिंह आनंदपाल को गोली दागने में कुछ सेकंड की चूक करता तो एनकाउंटर टीम के कई अफसर और कमांडो गैंगस्टर की गोलियों का शिकार हो सकते थे।  उन्होंने अपनी एक गोली से आनंदपाल को ढेर कर दिया था। इसके अलावा पुलिस टीम की भी जान बचाई।

बाबा खरताराम जाट का निधन

जैसलमेर जिले के प्रमुख किसान नेता खरताराम जाट "बाबा " का जोधपुर स्थित डऊकिया अस्पताल में निधन हो गया। कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे खरताराम चौधरी, 98 वर्ष के थे एवं लम्बे समय से बीमार चल रहे थे। उनका अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव भणियाणा में शनिवार को होगा। 
समाज सेवी रेवीदान चौधरी के यहां जन्मे खरताराम जी समाज में "बाबा" नाम से प्रसिध्द थे विराट व्यक्तित्व के धनी खरताराम ने सर्वप्रथम पोकरण ठिकाने को लगान देना बंद किया और इस हेतु सर्वोच्च न्यायालय तक मुकदमा लडा एवं सामंतवाद पर विजय पाकर क्षेत्र के किसानों को राहत दिलायी थी। मात्र अक्षर ज्ञान प्राप्त एवं पेशे से पशुपालक व किसान खरताराम जी ने भणियाणा में साठ के दशक में किसान छात्रावास की स्थापना की एवं समाज में सेवा भाव से जागृति की अलख जगाई। वे भणियाणा ग्राम सेवा सहकारी समिति और जैसलमेर क्रय विक्रय सहकारी संघ के लम्बे समय तक अध्यक्ष रहे।

Robbers loot Rs 15 lakh from UCO Bank branch in Jaipur

Armed robbers looted Rs 15 lakh at gunpoint from a bank in UCO Bank's Rajapark branch in Rajasthan's capital Jaipur on 20th July 2017. Two robbers were caught on CCTV entering the bank. They were wearing caps. One of them was using a handkerchief to cover his face.
Preliminary investigation revealed that the bank branch doesn’t have any security guard. “At 9.30am, soon after the bank opened, two men with their faces covered, entered the premises. They took a sanitation worker and a specially-abled bank official hostage at gunpoint,” said assistant commissioner of police, Adarsh Nagar, Madan Singh. Over next 45 minutes, an unbelievable drama unfolded as the robbers kept taking people who entered the bank hostage.“The main entrance to the bank was open. As the staff members came in, they were taken hostage by the robbers,” said Singh.

Government allows CBI probe into Anandpal and Surendra Singh's Death

Rajasthan Government Allows CBI Probe into Anandpal & Surendra Singh’s Death, Twenty-five days since Anandpal Singh’s death in a police crossfire. Surendra Singh, the victim of Sanvarad violence, was a guard at Bhagatpura’s Shree Cement plant in Pali district. The only son of his parents, Surendra had gone to attend Anandpal Singh’s funeral on April 24, on the appeal of Rajput leaders. He became a victim of vicious caste politics.
As per the agreement, government will refer two cases - Anandpal's death on June 24 and death of Surendra Singh in a firing at Sanvarad on July 12 to CBI. State government will also provide compensation, as per norms, to deceased and injured during protests. "Two FIRs have been registered, one in Ratangarh and other one in Sanvarad. Both cases will be recommended to CBI and they will decide on further course of action" said home minister Gulabchand Kataria.

नदी में बहे कुशलगढ़ एसडीओ की बॉडी मिली

बाँसवाड़ा जिले में शुक्रवार सुबह कुशलगढ़ उपखण्ड अधिकारी के वाहन सहित बह जाने के प्रकरण में हादसे के 48 घंटों के बाद रविवार को सुबह एसडीओ रामेश्वरदयाल की बॉडी मिली।  रविवार को सुबह एनडीआरएफ व एसडीआरएफ दल तथा स्थानीय गोताखोरों के दल व ग्रामीणों को मिलाकर सैकड़ों लोगों ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया था कि ग्रामीणों द्वारा नदी के बहाव क्षेत्र में 10 किलोमीटर दूरी पर एसडीओ की बॉडी दिखाई देने की सूचना प्राप्त हुई। इस पर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और बॉडी को निकलवाया गया। इसके बाद कलक्टर श्री भगवीप्रसाद, एसपी श्री कालूराम रावत भी मौके पर पहुंचे और परिजनों से बात करते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया गया।  
ग्रामीण विकास, पंचायती राज, संसदीय मामलात और निर्वाचन विभाग के राज्यमंत्री श्री धनसिंह रावत, पीएचईडी राज्यमंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्री सुशील कटारा, जिला कलक्टर श्री भगवतीप्रसाद तथा जिला पुलिस अधीक्षक श्री कालूराम रावत ने कुशलगढ़ एसडीओ रामेश्वरदयाल मीणा के साथ हुए हादसे को दुखद बताया है। उन्होंने दिवंगत मीणा को हार्दिक श्रद्धांजलि अर्पित की है और परिवारजनों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त की हैं। 

राजस्थान के सुंदर सिंह गुर्जर ने वर्ल्ड पैरा एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में गोल्ड जीता

राजस्थान के भाला फेंक खिलाड़ी सुंदर सिंह गुर्जर ने 15 जुलाई को आईपीसी पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2017 में भारत को पहला पदक दिलाया।पैरालंपिक स्वर्ण पदक विजेता देवेंद्र झझारिया की गैरमौजूदगी में सुंदर ने 60.36 मीटर के निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के साथ सोने का तमगा अपने नाम किया और विश्व चैंपियन बने। श्रीलंका के दिनेश प्रियांथा हेराथ 57.93 मीटर के साथ दूसरे जबकि पूर्व चैम्पियन चीन के गुओ चुनलियांग सीजन के अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 56.14 मीटर के साथ तीसरे स्थान पर रहे।
राजस्थान के करौली जिले से आने वाले सुंदर ने रियो पैरालम्पिक के लिए भी बड़ी तैयारी की थी लेकिन सुंदर रियो 2016 में तकनीकी कारणों से डिस्क्वालीफाई हो गए थे। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने वल्र्ड पैरा एथलेटिक्स चैम्पियनशिप-2017 की जैवलिन थ्रो स्पर्धा में गोल्ड मेडल जीतने पर प्रदेश के पैरा एथलीट श्री सुंदर गुर्जर को बधाई दी है। 

Nationwide Emergency Response System established under Nirbhya Fund

Central Government has envisioned to establish a nation wide Emergency Response System(NERS) comprising an integrated Computer Aided Despatch(CAD) platform under Nirbhya Fund. Under this system at least one call center has to be establish in each State and Union Territory.  Department of Telecommunication allocated "112" number as the Single Emergency Response number for all over the country. The State Apex Committee, State Steering Committee and District Mission Committee are constituted for implementing the NERS project at the State level.
Rajasthan government established State Apex Committee under the chairmanship of Chief Secretory. Principal Secretory, Home, Disaster Management, Woman and child Development, Health, DOIT&C, Representative from NIC and MHA as member and Additional Director general of Police (Telecommunication & Technical) as its (NERS) nodal officer of the Committee. State Apex Committee is responsible of giving approval at highest level of the State, the committee would be responsible for over all project implementation, review progress of project, for decision regarding adding new services/help lines in the NERS.

फिरदौश कायमखानी - राजस्थान की प्रसिद्ध तैराक

पुणे में जूनियर नेशनल स्वीमिंग प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल प्राप्त करने वाली राजस्थान की पहली खिलाड़ी फिरदौश कायमखानी ने 12 जुलाई को राजस्थान मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से उनके निवास पर मुलाकात की। सुश्री फिरदौश ने 19 बार नेशनल प्रतियोगिताओं में भाग लेकर अनेक सिल्वर एवं गोल्ड मेडल जीत कर राजस्थान का नाम रोशन किया है।
भीलवाड़ा जिले की शाहपुरा निवासी फिरदौस कायमखानी ने 3-6 जुलाई तक पुणे में आयोजित 44वें राष्ट्रीय जूनियर स्विमिंग कॉम्पीटिशन में इन्डिविजुअल मेडले 400 मी. में स्वर्ण पदक, बटरफ्लाई 200 मी. में रजत एवं बटरफ्लाई 100 मी. में कांस्य पदक प्राप्त किया है।

कमांडो सोहन सिंह को इलाज के मेदान्ता हाॅस्पिटल भेजा

कुख्यात अपराधी आनंदपाल के एनकाउंटर के दौरान गम्भीर रूप से घायल हुए कमांडो सोहन सिंह को मुख्यमंत्री राजे की पहल पर बेहतर इलाज के लिए शुक्रवार को जयपुर से एयर एम्बुलेंस द्वारा गुड़गांव के मेदांता हाॅस्पिटल भेजा गया। चिकित्सकों की सलाह पर सोहन सिंह को तत्काल बेहतर उपचार के लिए गुरूग्राम भेजने का निर्णय लिया। इसके बाद श्री सोहन सिंह को एयर एम्बुलेंस से मेदान्ता हाॅस्पिटल के लिए रवाना किया गया। एयर एम्बुलेंस में सवाई मानसिंह अस्पताल के चिकित्सक डाॅ. धनंजय अग्रवाल भी साथ गए हैं, जो यहां भी कमाण्डो श्री सोहन सिंह का लगातार उपचार कर रहे थे। 
पुलिस आयुक्त श्री संजय अग्रवाल ने बताया कि श्री सोहन सिंह एनकाउंटर में गम्भीर घायल हो गए थे। उनके फेफड़ों में संक्रमण हो गया था। सवाई मानसिंह अस्पताल में उनकी सर्जरी सहित अन्य उपचार किया गया। आगे के उपचार के लिए उन्हें गुरूग्राम के मेदांता अस्पताल भेजा गया है। उनका मेडिकल रिकाॅर्ड पहले ही मेदांता अस्पताल भेज दिया गया है, जिसके अनुसार वहां उपचार की पूरी तैयारी कर ली गई है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के इस निर्णय से पूरी राजस्थान पुलिस का हौसला बढ़ा है। 

Festival of Education in Jaipur on 5th, 6th August 2017

Jaipur is all set to host India’s first ever Festival of Education on 5th and 6th August 2017. On 19th December last year, Chief Minister, Vasundhara Raje, had announced this event in New Delhi. To be organized in collaboration with GEMS Education – World’s largest K-12 School Education Provider, this festival shall be held at the Jaipur Exhibition & Convocation Center and shall serve as a launch pad for positioning Rajasthan as the intellectual capital of India. “Empower our younger generation by equipping them with skill and education in order to make them global citizens” is what Chief Minister Raje had said in the curtain raiser event. This festival would travel in its future editions to other cities of the state and this conclave would be a platform that shall see participation by some of the world’s leading educationists and experts who shall discuss the future of education and transformation of the nation through innovation and knowledge exchange. This event shall open up a world of possibilities for ONE YOUNG RAJASTHAN.
Amreesh A. Chandra, Group President, GEMS Education India said, “This event would be a convergence of global leaders who would deliberate and deliver potentially actionable points to transform education in the state. The primary aim is to visualize and showcase the futuristic scenario of education in India”. A CSR initiative by GEMS Education, this festival would see a convergence of ideas from Innovators, Vice Chancellors, Principals, Teachers, Social Strategists, Scientists, Policy Makers, Leaders, Parents, Students and the Media. The event would be broadly divided into three different zones – fundamental, elemental and experimental. Discussions would revolve around education for girls, positive schooling, role of education in world peace and many other topics that are contemporary and thought provoking. The festival would also have a number of cultural activities by students as well as by professional artists. 

दीनदयाल उपाध्याय वरिष्ठ नागरिक तीर्थयात्रा योजना के लिए आॅनलाइन आवेदन शुरू

दीनदयाल उपाध्याय वरिष्ठ नागरिक तीर्थ यात्रा योजनान्तर्गत देवस्थान विभाग की ओर से इस बार 10 स्थानों पर हवाई यात्रा एवं 13 स्थानों पर रेल यात्रा के लिए 31 जुलाई, 2017 तक आॅनलाइन आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। देवस्थान आयुक्त श्री जितेन्द्र उपाध्याय ने बताया कि तीर्थयात्रा के लिए राजस्थान के मूल निवासी जो आयकरदाता नहीं हैं, तथा पूर्व में जिन्होंने इस योजना का लाभ नहीं उठाया है, आवेदन के पात्र होंगे। आवेदक का शारीरिक एवं मानसिक तौर पर स्वस्थ होना अनिवार्य है। इसमें सरकार या स्थानीय निकाय से सेवानिवृत कर्मचारी, अधिकारी व उनके जीवन साथी यात्रा के पात्र नहीं होंगे। एक जुलाई 2017 को 60 वर्ष या अधिक आयु के व्यक्ति रेल यात्रा हेतु एवं 65 वर्ष एवं अधिक आयु के व्यक्ति हवाई जहाज से यात्रा के पात्र होंगे।  रेल यात्रा में 15 हजार यात्रियों को लाभ मिल सकेगा जिनमें 70 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के वृद्धजन के साथ सहयोगी को यात्रा का लाभ दिया जायेगा। लेकिन पति-पत्नी के साथ यात्रा करने पर सहयोगी की अनुमति नहीं होगी। यात्रा में वरिष्ठजन सहायकों में रेल यात्रा हेतु पुरुष सहायक 21 से 45 वर्ष के मध्य तथा महिला सहायक 30 से 45 वर्ष के मध्य आयु का होना चाहिए। आवेदन के वक्त ही वरिष्ठ नागरिक को अपने साथ जीवन साथी अथवा सहायक होने की सूचना देनी आवश्यक होगी। 
आवेदन की प्रक्रिया : अतिरिक्त आयुक्त श्री अशोक कुमार ने बताया कि वरिष्ठ नागरिक तीर्थ यात्रा योजनान्तर्गत केवल आॅनलाइन आवेदन ही स्वीकार्य होंगे। आवेदन वेबसाइट http://devasthan.rajasthan.gov.in/Schemes.asp से प्राप्त किये जा सकते हैं। आवेदक व सहायक दोनों के पास भामाशाह अथवा आधार कार्ड होना जरूरी होगा। आवेदन में अपनी पसंद के तीन तीर्थ स्थल वरीयता क्रम में अंकित करने होंगे। आवेदन से पूर्व आवेदक को भामाशाह कार्ड पंजीयन की प्रक्रिया पूरी कर लेनी होगी जिससे फोटो व दस्तावेज अपलोड व अन्य विवरण की आवश्यकता नहीं होगी।
रेल यात्रा के लिए तीर्थ स्थल: वरिष्ठ नागरिक तीर्थ यात्रा योजनान्तर्गत रेल द्वारा यात्रा के लिए वैष्णोदेवी, अमृतसर, गया-बोधगया- काशी-सारनाथ, सम्मेदशिखर, बिहार शरीफ-नालन्दा-राजगीर, जगन्नाथपुरी, द्वारकापुरी, शिरडी, गोवा, तिरूपति, रामेश्वरम, पटना साहिब तथा श्रवण बेलगोला तीर्थ स्थल शामिल किये गए हैं। राजस्थान में रेल यात्रा के लिए जयपुर, जोधपुर, उदयपुर, कोटा, भरतपुर, बीकानेर तथा अजमेर से यात्री प्रस्थान करेंगे। 
हवाई जहाज से यात्रा स्थल: हवाई जहाज से तीर्थ यात्रा के लिए रामेश्वरम्, जगन्नाथपुरी, तिरूपति, वाराणसी (काशी)-सारनाथ, बिहार शरीफ-नालन्दा-राजगीर, शिरडी, अमृतसर, सम्मेद शिखर व पटना साहिब तीर्थ स्थलों का चयन किया गया है। इन स्थलों के निकटतम एयरपोर्ट के पश्चात् शेष यात्रा बस द्वारा करनी होगी। राजस्थान में हवाई तीर्थ यात्रा के चयनित यात्री जयपुर, जोधपुर व उदयपुर से हवाई जहाज से प्रस्थान करेंगे।

Rajasthan 10th Result 2017 www.rajresults.nic.in

www.rajresults.nic.in Rajasthan Board 10th Results 2017 on 8th June 2017: Rajasthan Board of Secondary Education (RBSE), Ajmer or BOSER has declared 10th Board results Today, 8th June 2017 at 4 PM at official website of Rajasthan www.rajresults.nic.in and http://rajeduboard.rajasthan.gov.in/ by RBSE Ajmer.

You can Bookmark us or follow us on FACEBOOK or GOOGLE+ for more updates on Board Examination date, News and other details. 

Rajasthan 10th Results websites:



You Might Also Like: 

BJP govt insensitive towards farmers: Sachin Pilot

Rajasthan Congress chief Sachin Pilot Wednesday accused the BJP-ruled states of being “insensitive” towards farmers and suppressing their voice. “In the last few days, farmers demanded relief from the governments in Maharashtra and Madhya Pradesh. But, instead of paying heed to their demands, they killed them with bullets,” he said in a statement. Accusing the BJP governments in Maharashtra, Rajasthan, Madhya Pradesh and Uttar Pradesh were neglecting the farmers’ issues, Pilot said about 60 farmers in Rajasthan have committed suicide due to the lack of government support or crop damage.
Meanwhile in recent development Congress vice president Rahul Gandhi climbed on a bike today as his convoy was stopped near Madhya Pradesh's Mandsaur, where farmer protests have escalated over the death of five in police firing on Tuesday. Mr Gandhi first flew down to Udaipur in adjoining Rajasthan and drove from there. At a spot where heavy police presence was seen, the Congress leader was seen jumping onto a bike to try and reach Mandsaur. A crowd of Congress workers, journalists and policemen could be seen chasing the bike for some distance. Sachin Pilot, the Rajasthan Congress chief, also drove off in another bike.

Rajasthan 8th Board Result 2017

Rajasthan 8th Board Result 2017:  Rajasthan 8th board result 2017 has been declared today, 8th June 2017 by RBSE, BSER Ajmer on its official website www.rajeduboard.rajasthan.gov.in. Students and parents can check results at below website links by Roll Number and even by Name.  Board of Secondary Education, Rajasthan has conducted the 8th Board exams from March 9 to 21, 2017 at various centers and DIET is nodal agency for results. Around 11 lakh students have taken the Rajasthan 8th Board exams this year.
Students are awarded grades this year instead of marks inline with CBSE and other boards to keep students motivated. Check Rajasthan 8th Board Result 2017.

Congress Leader CP Joshi elected RCA President

Congress leader C.P. Joshi was elected president of the Rajasthan Cricket Association (RCA) on Friday. He defeated Lalit Modi's son Ruchir. Securing 19 votes, Joshi defeated Ruchir Modi, who had secured 14 votes only. The RCA 2017 elections were held on 19th May 2017.  Rajasthan High Court on Tuesday granted permission for the counting of votes on June 2.
The 2017 election was an intense contest between RCA president Lalit Modi’s son Ruchir Modi and senior Congress leader CP Joshi, who has also been a former RCA president. Earlier this month, the Rajasthan High Court had intervened on a petition of Bhilwara District Association’s Ramlal Sharma and directed the RCA to hold elections this month, setting aside the observer’s order which had called off the elections last month. According to reports, the polling for the six posts as per the Lodha Committee recommendations was short as there are only 33 district cricket associations, who have the voting right in accord with the Sports Act prevailing in the state.

BSTC Result 2017

BSTC Result 2017Rajasthan, Basic School Teachers Certificate Course (BSTC) entrance exam result 2017 have been released on June 1. More than 5,12,382 candidates had applied for the examination but approximately 4,78,818 appeared for the exam official statement by The Vice Chancellor, Prof. Kailash Saudani of BSTC. 
Candidates can check their result at official website www.bstc2017.com

Rajasthan PTET Result 2017

PTET Exam Result 2017: Rajasthan Pre Teacher Eligibility Test (PTET) 2017 has been declared today, on June 1, by Maharshi Dayanand Saraswathi University, Rajasthan at 1 pm. The examination was conducted on May 14 for admission to BEd colleges in the State from 2 pm to 5 pm in a single session. Nearly 2.8 lakh candidates appeared for the same. All those candidates who had appeared for the same are required to check their respective results from the official website www.ptet2017.com

'Peacocks Don't Have Sex' Rajasthan Judge's Remark Stumps Twitter

Rajasthan high court judge Mahesh Chand Sharma said on Wednesday that a Peacocks don't have sex and it was because of this “quality“ that it was declared India's national bird. That bizarre remark came from a Rajasthan High Court judge and it kept Twitter hooked to their keyboards for hours. That comment was made by Judge Mahesh Chandra Sharma who, on Wednesday, recommended that the cow be given the status of India's national animal. In his argument, the judge compared the cow to the national bird, the peacock, and described both the species as "pious".
Elaborating on how peacock is considered holy because of its so-called celibacy, Sharma said: “Mor ka pankh bhi bhagwan Krishna ne isi liye lagaya. Sadhu-santon aur mandiron mein issi liye mor ko kaam mein liya jata hai -brahmcharya hai.(Lord Krishna wore the peacock feather for this reason.The feather is used by saints and priests and in temples because peacock is a celibate.)“. 

Collector-SP Conference Inaugurated in Jaipur

Chief Minister Smt. Vasundhara Raje has said that with honesty, hard work and commitment the state government was successful in delivering good governance to the public. Now, works needed to speed up further for completion within time limit and ensure that rest of the promises were kept, she said.  Smt. Raje said that satisfaction of the public was the best parameter of good governance and it was observed on the basis of ease of grievance redressal. "I am happy that we have fulfilled this parameter," she said. She was addressing the inaugural session of the Collector-SP Conference at the CMO on Wednesday. 
The CM said that besides effective orators, the officers should also be good listeners. Then, the commoners would be able to state their grievances to them. She said that the district administration had to be quick and alert for their routine duties so that good interaction could be ensured between the government and the public. She said that instead of talking about dearth of resources, maximum results should be ensured with available limited resources. Smt. Raje asked the district collectors to identify talented officers and employees and utilize their talent for sensitive and effective governance. She said that the innovative practices and new initiatives should be shared with the Chief Secretary to implement these in other districts. Such ideas with potential could be suggested to the Centre and the other states as well, she added.
The Chief Minister said that many young officers of Team Rajasthan were well-verse with use of technology, while senior officers' experience would be an advantage for extending good governance to the public. She urged the collectors to be receptive to new ideas and think out of box. She said that as per the parameter set during the last Collector-SP Conference in November 2016, Chittorgarh, Hanumangarh, Pali, Ajmer and Bhilwara had topped the districts respectively in effective implementation of central and the state government schemes. She hoped that the other districts would also progress in executing the government schemes and programmes effectively and adopt novelty.  Smt. Raje said that the Collectors should sit with the officials of various state departments to coordinate and resolve the pending issues. Before this, Chief Secretary Shri OP Meena sketched an outline of the Conference.  Members of the Council of Ministers, Parliamentary Secretaries and senior most officers of different departments are participating in this convention. 

राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल 12वीं की परीक्षा का परिणाम घोषित

शिक्षा राज्य मंत्री श्री वासुदेव देवनानी ने शुक्रवार को शिक्षा संकुल सभागार में राजस्थान स्टेट ओपन स्कूल, जयपुर द्वारा मार्च-मई, 2017 में आयोजित कक्षा 12वीं की परीक्षा का परिणाम घोषित किया। परीक्षा  में 80.2% प्रतिशत अंक प्राप्त कर महिला वर्ग में मुस्कान इंटोदिया ने एवं 77.2% प्रतिशत अंक प्राप्त कर पुरुष वर्ग में अलताफ हुसैन ने सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया है। श्री देवनानी ने दूरभाष पर इन दोनों को व्यक्तिशः बधाई दी तथा कहा कि ऎसे ही जीवन में निरंतर पढ़ते हुए आगे बढ़ें। उन्होंने बताया कि सर्वोच्च स्थान प्राप्त करने वाली मुस्कान को राज्य सरकार द्वारा मीरा पुरस्कार एवं अलताफ को एकलव्य पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। इसके अंतर्गत इन्हें प्रमाण पत्र एवं दोनाें को 11-11 हजार रुपये राशि का नकद पुरस्कार व प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाएगा।

कक्षा 12वीं का परिणाम website : http://www.rsos.rajasthan.gov.in पर देखा जा सकता है। 

SBC की 5 जातियां पुनः OBC में शामिल

जयपुर, 19 मई। राज्य सरकार ने शुक्रवार को एक अधिसूचना जारी कर पॉच एसबीसी (SBC) की जातियों को राजस्थान राज्य की अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) की सूची में पुनः शामिल किया है।  अधिसूचना के अनुसार बंजारा, बालदिया, लबाना, गाडिया-लोहार, गाडोलिया, गूजर, गुर्जर, राईका, रैबारी (देबासी) गडरिया (गाडरी) एवं गायरी जातियां  पुनः राजस्थान राज्य की अन्य पिछड़ा वर्ग सूची में सम्मिलित की गई हैं।  
उल्लेखनीय है कि पूर्व में इन पांचों जातियों को राजस्थान विशेष पिछड़ा वर्ग  अधिनियम 2015 के अन्तर्गत विशेष पिछड़ा वर्ग (एसबीसी) में सम्मिलित किया गया था।  

Cabinet approves 10 new atomic reactors, including 4 in Mahi Banswara

Union cabinet on 17th May cleared a proposal to indigenously build 10 atomic reactors, the largest ever approval granted for such facilities in one go. Once completed, the 10 reactors of 700 MW each will give much needed fillip to the domestic nuclear industry. The Pressurised Heavy Water Reactors (PHWRs) will be developed by the Department of Atomic Energy. India currently has installed nuclear power capacity of 6780 MW from 22 operational plants. Another 6700 MW of nuclear power is expected to be added by 2021-22 when currently under-construction projects go onstream in Rajasthan, Gujarat and Tamil Nadu.  The ten reactors will be installed in Kaiga in Karnataka (Unit 5 and 6), Chutka in Madhya Pradesh (Unit 1 and 2), Gorakhpur in Haryana (Unit 3 and 4) and Mahi Banswara in Rajasthan (Unit 1, 2, 3 and 4).
This Project will bring about substantial economies of scale and maximise cost and time efficiencies by adopting fleet mode for execution. It is expected to generate more than 33,400 jobs in direct and indirect employment. With manufacturing orders to domestic industry, it will be a major step towards strengthening India’s credentials as a major nuclear manufacturing powerhouse. The ten reactors will be part of India’s latest design of 700 MW PHWR fleet with state-of-art technology meeting the highest standards of safety. The approval also marks a statement of strong belief in the capability of India’s scientific community to build our technological capacities. The design and development of this project is a testament to the rapid advances achieved by India’s nuclear scientific community and industry. It underscores the mastery our nuclear scientists have attained over all aspects of indigenous PHWR technology. India’s record of building and operating PHWR reactors over the last nearly forty years is globally acclaimed.

BSF begins operation 'Garam Hawa' in Rajasthan

BSF has started operation 'Garam Hawa' in the western sector in Rajasthan, under which vigil along the international border with Pakistan has been stepped up.  The operation, which started on 15th May will continue till 23rd May 2017. 

Rajasthan Board 12th Results 2017 at www.rajresults.nic.in

Rajasthan Board Of Secondary Education’s (RBSE), Ajmer Declared Results of Class 12th Science and Commerce Today, 15th May 2017 on the official website of the Board. The exam had been held between in March 2017.  The result is declared on the official website of RBSE – http://rajresults.nic.in/ . 
According to the Rajasthan Board, the overall passing percentage in the state stood at 90.36% for Science while 90.88% for commerce students.

Check Rajasthan 12th Results 2017: http://rajresults.nic.in/

Check RBSE Results Statistics Merit List at: http://rajeduboard.rajasthan.gov.in/statistics2017.HTM

Bajrang Punia Wins Gold at Asian Wrestling Championship 2017

Bajrang Punia gave India its first gold medal as he registered a come-from-behind victory over Seungchul Lee of Korea in men's 65kg freestyle on the penultimate day of the Asian Wrestling Championship 2017 on 13th May 2017. After registering a fabulous 6-2 win, Bajrang celebrated by taking a victory lap with the tri-colour on his shoulders. Bajrang, who has been mentored by Olympic bronze-medallist Yogeshwar Dutt, made a dramatic comeback in the second round of the contest to win the title. After trailing by two points in the opening three minutes, the Indian was more aggressive in the second round, unleashing counterattacks to which his rival had no response.  Bajrang Punia, born on 26 February 1994 in Jhajjar, Haryana is a freestyle wrestler from India. He was born in a jat family. He began wrestling at the age of seven and was encouraged to pursue the sport by his father.
Prime Minister, Shri Narendra Modi has congratulated Shri Bajrang Punia for securing the Gold in Asian Wrestling Championship. Congratulations to Bajrang Punia for securing the Gold in Asian Wrestling Championship. India is very proud of his exemplary accomplishment.” , the Prime Minister said.


Rajasthan: 6 children die, 25 others injured in road accident

Six children were killed and 21 others were injured after a tractor rammed into a trolley near Sawai Madhopur district in Rajasthan. The tragedy took place at Laehsoda Mor in Kushalipura area, which is located around 12 km away from Sawai Madhopur. The victims were going to attend a wedding which was to be held in Khanpur village on Sunday.
As per Police, there were two tractors, one carrying men and the other carrying women and children. All of them were coming from Daultapur village to attend the wedding, when the incident took place. The injured have been admitted in the nearby hospital.

वैंकय्या नायडू ने लिया झालावाड़ का तीतरवासा गांव गोद लिया

भारत सरकार के आवास और शहरी गरीबी उन्मूलन और सूचना और प्रसारण मंत्री एवं राजस्थान से राज्य सभा सदस्य वैंकय्या नायडू ने सांसद आदर्श ग्राम योजना के अन्तर्गत झालरापाटन पंचायत समिति के ग्राम तीतरवासा को गोद लिया है। झालावाड़ जिला प्रमुख टीना कुमारी भील की अध्यक्षता में तीतरवासा ग्राम पंचायत के अटल सेवा केन्द्र में शनिवार को बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में जिला प्रमुख ने तीतरवासा ग्राम को केन्द्रीय मंत्री द्वारा गोद लेने को पंचायत के लोगों के लिए वरदान बताते हुए कहा कि ग्रामीणों को सम्पूर्ण ग्राम के सर्वांगीण विकास के लिए जो सुअवसर प्राप्त हुआ है उसका उन्हें भरपूर लाभ उठाना चाहिए। केन्द्र और राज्य सरकार द्वारा संचालित सभी योजनाओं का लाभ यहां के पात्र लोगों को दिलाने तथा शिक्षा, चिकित्सा, कृषि, यातायात की बेहतर सुविधाएं सभी ग्रामीणों को मिले इसके लिए सभी जनपर््रतिनिधियों एवं अधिकारियों को आपसी समन्वय के साथ कार्य करने की बात भी उन्होंने कही।
इस दौरान मुख्य कार्यकारी अधिकारी बीएल मीणा ने ग्राम वासियों का आह्वान किया कि वे ग्राम को वाद रहित, स्वच्छ, चिकित्सा, स्वास्थ्य, पेयजल एवं शिक्षा आदि के क्षेत्र में बेहतर कार्य कर अपने ग्राम को आदर्श बनाएं और केन्द्रीय मंत्री द्वारा उक्त ग्राम को जिस सोच के साथ गोद लिया गया है उसे साकार करने में जिला प्रशासन को पूर्ण सहयोग करें। उन्होंने ग्रामीणों से अपील की कि वे ग्राम में स्वच्छता रखें, शौचालयों का उपयोग करें और मुख्यमंत्री स्वच्छ ग्राम योजना का भी लाभ उठाएं।  

GRAM Kota to be held from 24 to 26 May 2017

Global Rajasthan Agritech Meet (GRAM) 2017 will be held at Kota from 24 to 26 May at RAC grounds. This was informed today by the Rajasthan Agriculture Minister, Mr. Prabhu Lal Saini at Krishi Bhawan. He was speaking to the media after the review meeting for GRAM today. Mr. Saini said that at the Global Rajasthan Agritech Meet 2016 held at Jaipur in November, the Chief Minister, Ms. Vasundhara Raje had announced that GRAMs will also be held at the Divisional levels in the State. The GRAM Kota will be jointly organized by the Government of Rajasthan and Federation of Indian Chambers of Commerce and Industries (FICCI). 
The Agriculture Minister further elaborated that the objective of the GRAM at Kota was to empower the farmers of the Division. The event will highlight the agriculture strength of Kota Division. He said as many as 30,000 farmers were expected to attend the event – around 10,000 farmers on each day. The Kota division, he said, was strong in the production of oranges, coriander, soyabean, garlic, ashwagandha, muesli, among others. During GRAM in Kota efforts will be made to discuss how the farmers can benefit by way of value addition of the produce, setting up of processing units and innovation. The Minister also informed that 38 Memoranda of Understanding (MOUs) for projects worth Rs. 4,400 crores were signed between the State Government and the private investors at the GRAM in Jaipur in November last year. Of these 30-35 percent were already actively on board having found land and some of them even having begun construction. 

Rajasthan govt transfers 77 IAS and 46 IPS officers

Rajasthan government on Friday transferred 77 IAS, 46 IPS and 150 RAS officers with immediate effect. Among the list of 46 IPS officers, eight Superintendents of Police of Ajmer, Rajsamand, Jhunjhunu, Sawaimadhopur, Kota City, Bharatpur and Bikaner, three Additional Director Generals of Police, two IGs and three DIGs have been reshuffled. A total of 150 officers of Rajasthan Administrative Services (RAS) have also been served transfer orders in almost all districts of the state.
IAS officers' list covers transfer of Commissioners, Deputy Commissioners, Secretaries, District Supply Officers, Sub-Divisional Magistrate, Assistant Collectors and Project Directors. It is believed to be a routine reshuffle in view of SP and Collectors conference to be addressed by the Chief Minister later this month, a source said.

Avinash Pande appointed Rajasthan Congress general secretary

Congress appointed Avinash Pande as the new General Secretary incharge of Rajasthan Congress, while also bringing in new chiefs for its Uttarakhand and Punjab units. While former minister Sunil Jakhar was appointed the new PCC chief for Punjab, replacing Amarinder Singh, who became the chief minister; four-time legisltor Pritam Singh was made the new Uttarakhand Congress chief, replacing Kishore Upadhyay. The party also appointed Vivek Tankha, a Rajya Sabha member from Madhya Pradesh as the new AICC Secretary incharge of Legal and Human Rights department, replacing K C Mittal. 
AICC also named senior leader Sunil Jakhar, supporter of Punjab chief minister Amarinder Singh, as state PCC president, reliving Singh of his party post. It also retained the 'Sikh-Hindu balance' in the state Congress. Though Pande replaces Gurudas Kamat, AICC spokesman Randeep Surjewala said Kamat would continue as AICC general secretary, without organisational charge at the moment. Surjewala stressed that all the appointments were made by "both Sonia Gandhi and Rahul Gandhi". 

मरू उद्यान में बनेगा गोडावण हैचिंग सेंटर

राजस्थान सरकार, भारतीय वन्यजीव संस्थान और केंद्र सरकार के सहयोग से प्रदेश में गोड़ावण को विलुप्त होने से बचाने के लिए संरक्षित प्रजनन केंद्र स्थापित करेगी। राज्य के वन विभाग, केंद्र सरकार और वन्यजीव संस्थान के अधिकारियों एवं अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों की शुुुुुक्रवार को दिनभर चली कार्यशाला में इस पर सहमति बनी कि जैसलमेर में राष्ट्रीय मरू उद्यान क्षेत्र (डीएनपी) में गोडावण का हैचिंग सेंटर विकसित किया जाए। इसके पश्चात बारां जिले के सोरसण में एक ब्रीडिंग सेंटर स्थापित करने पर विचार किया जाएगा। कार्यशाला के बाद विशेषज्ञों और प्रतिभागियों ने मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे से मुलाकात कर उन्हें गोडावण संरक्षण योजना की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए गोडावण की विलुप्त होती प्रजाति को बचाना बेहद जरूरी है और यह बात स्थानीय लोगों को समझाई जानी चाहिए ताकि वे इनके संरक्षण में सहभागी बन सकें।
श्रीमती राजे ने मरू उद्यान क्षेत्र में रहने वाले लोगों के लिए पुनर्वास की व्यवस्था सुनिश्चित करने तथा उनको विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने की कार्यवाही में गति लाने के निर्देश दिए। उन्होंने डीएनपी क्षेत्र में रसोई गैस वितरण का कार्य भी जल्द पूरा करने को कहा। उन्होंने सवाई माधोपुर अभयारण्य की तर्ज पर गोडावण के संरक्षण में स्थानीय युवाओं को स्वयंसेवक के रूप में जोड़ने की योजना लागू करने का भी सुझाव दिया। बैठक में उज्बेकिस्तान में गोडावण संरक्षण पर कार्य कर रहे विशेषज्ञ श्री कीथ स्कॉटलैण्ड तथा स्पेन के विशेषज्ञ श्री जुआन कार्लोस अलेंग्जो ने इस पक्षी के संरक्षण के लिए वहां किए जा रहे प्रयासों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने प्रस्तावित गोडावण संरक्षण योजना में अपनी सेवाएं देने के लिए सहमति व्यक्त की।  

Kalpit Veerval from Udaipur tops JEE Mains with 100% Score

Kalpit Veerwal from Udaipur, Rajasthan, has topped the Joint Entrance Examination Main 2017 scoring full marks. He topped in the general as well as Scheduled Caste (SC) category. He is the first student to score 360 out of 360. A student of MDS senior secondary school in Udaipur, Kalpit is now awaiting his Class 12 exam results. But his eyes are already set on the next target: the JEE (Advanced) examination for IITs on May 21. The results were declared on 27th April 2017. Click for JEE-Main Result 2017
Veerwal’s father works as a compounder at Udaipur’s Maharana Bhupal Government Hospital and his mother is a teacher at a government school. He has an older sibling who is studying at the All India Institute of Medical Sciences in Delhi. Over 10.2 lakh students had appeared for the exam at 1,781 centres across the country. The examination was held on 2 April (offline) and 8 and 9 April (online). Candidates clearing the JEE-Main will be eligible to appear in the JEE-Advanced exam, 2017. The JEE is conducted for admission to B.Tech, BE and B.Arch programmes offered at IITs, NITs, IIITs and other government-approved engineering institutes.

राजस्थान माल और सेवा कर विधेयक (GST Bill), 2017 पारित

तेलंगाना और बिहार के बाद राजस्थान बुधवार को राजस्थान में भी राज्य वस्तु एवं सेवा कर (GST) बिल पारित हो गया।राजस्थान विधानसभा के आठवें सत्र के दूसरा चरण के अंतिम दिन राजस्थान माल और सेवा कर विधेयक, 2017 संशोधित रूप में ध्वनिमत से पारित कर दिया गया। उद्योग मंत्री श्री राजपाल सिंह शेखावत ने विधेयक को सदन में प्रस्तुत किया। विधेयक पर हुई बहस का जवाब देते हुए उद्योग मंत्री ने कहा कि यह ऎतिहासिक दिन है, जब राजस्थान इस विधेयक को पारित करने के साथ देश में करों की जटिलता को समाप्त कर विकास दर को बढ़ाने में अपना योगदान दे रहा है। श्री शेखावत ने कहा कि भारत में कर की अवधारणा प्राचीन समय से ही विद्यमान रही है। ऋग्वेद और अथर्ववेद में करों की प्रासंगिकता और सरलता उल्लेखित है और चाणक्य ने भी कहा है कि करों को जटिल नहीं होना चाहिए।
शेखावत ने कहा कि करों की जटिलता अपने आप में ही एक कर है। इसी वजह से इस विधेयक के माध्यम से करों की जटिलता को कम किया जा रहा है और देश की अर्थव्यवस्था को प्रगतिशील अर्थव्यवस्था में बदलने का काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि देश के विभिन्न राज्यों में कई प्रकार के कर होने की वजह से देश की अर्थव्यवस्था में कई अर्थव्यवस्थाएं काम कर रही थीं। साथ ही इसमें जटिलता होने से भ्रम की स्थिति भी सामने आती थी और कई विधिक समस्याएं भी थीं। ऎसे में माल और सेवा कर देश के विकास की रफ्तार को आगे बढ़ाने वाला साबित होगा। उन्होंने कहा कि माल और सेवा कर से सभी कर एक हो जाएंगे और इससे करारोपण का तरीका भी बदलेगा। श्री शेखावत ने कहा कि तेरहवें वित्त आयोग ने माल और सेवा कर लाए जाने से देश के सकल घरेलू उत्पादन में 1.7 प्रतिशत की वृद्वि का अनुमान लगाया है। उन्होंने कहा कि कुछ अन्य अनुमानों के अनुसार यह वृद्धि 4 प्रतिशत से अधिक हो सकती है। 

राजस्थान में मुख्यमंत्री, मंत्री और विधायकों के वेतन-भत्ते बढे

राजस्थान विधानसभा ने बुधवार को राजस्थान मंत्री वेतन (संशोधन) विधेयक, 2017, राजस्थान मंत्री वेतन (द्वितीय संशोधन) विधेयक, 2017 एवं राजस्थान विधानसभा (अधिकारियों तथा सदस्यों की परिलब्धियां और पेंशन) (संशोधन) विधेयक,  ध्वनिमत से पारित कर दिए। संसदीय कार्य मंत्री श्री राजेन्द्र सिंह राठौड़ ने तीनों विधेयकों के सदन में प्रस्तुत किया। जहाँ राजस्थान राज्य सरकार के कर्मचारी एवं अधिकारी सातवें वेतन आयोग की पिछले 16 महीनों से बाट जो रहे हैं, इस बढ़ोतरी के लिए तीनों विधेयक को बिना किसी चर्चा के चंद मिनटों में ही ध्वनिमत से पारित कर दिया। इन पर न तो किसी विधायक ने कोई विरोध किया, न ही किसी प्रकार का सुझाव दिया।
वेतन भत्तों में हुई बढ़ोतरी के तहत सीएम का वेतन अब 35 हजार से बढ़कर 55 हजार रुपए प्रतिमाह हो गया है। स्पीकर का वेतन 33 हजार से बढ़कर 50 हजार, उपाध्यक्ष का वेतन 30 हजार से बढ़कर अब 45 हजार रुपए प्रति माह हो गया है। वहीं केबिनटे मंत्री का वेतन अब 45 हजार रुपए हो गया है, जो पहले 30 हजार रुपए था। वही राज्य मंत्री की सैलरी 27 हजार से बढ़कर 42 हजार रुपए प्रति माह हो गई है। संसदीय सचिव को अब 27 हजार की जगह 40 हजार रुपए प्रतिमाह मिलेंगे। मुख्यसचेतक को 30 हजार से बढ़कर 45 हजार रुपए प्रति माह दिए जाएंगे। विधायक के वेतन भत्तों में टोटल करीब 28 हजार रुपए बढ़ाए गए हैं। विधायको की सैलरी अब 15 हजार से बढ़कर 25 हजार रुपए प्रतिमाह हो गई है। साथ ही पूर्व विधायकों की पेंशन 15 से बढ़कर अब 25 हजार रुपए प्रति माह हो गई है। साथ ही पूर्व सीएम की सुविधाओं में भी अब इजाफा कर दिया गया है। पूर्व सीएम को आजीवन केबिनेट स्तर के मंत्री के बराबार कार, मकान औऱ स्टाफ की सुविधाएं मिलेगी। साथ ही जयपुर से बाहर जिला मुख्यालय पर भी अब कई सुविधाएं मिलेगी। विधानसभा कार्यवाही के अंतिम दिन वेतन औऱ भत्ते बढ़ाने का प्रस्ताव पारित किया गया।

Rajasthan Assembly suspends 12 Congress MLAs, Hanuman Beniwal and Nangiyal

Rajasthan Legislative Assembly on Wednesday suspended by voice vote 14 Opposition MLAs for one year for “indiscipline and misbehaviour”, but later reduced suspension of 12 Congress legislators to a day. The suspended MLAs are Congress MLAs Govind Singh Dotasar, Dheeraj Gurjar, Ghanshyam Mehar, Sukhram Vishnoi, Mewaram Jain, Shravan Kumar, Ramesh Meena, Ashok Chandana, Bhajanlal, Shankar, Shankuntala Rawat, Heeralal and Rajendra Yadav;  Independent MLA Hanuman Beniwal and BSP MLA Manoj Nangiyal. 
After the Congress members tendered an apology, the House passed another motion reducing the suspension of 12 party legislators from one year to one day. While the House kept its decision of suspension of BSP legislator and Independent MLA for one year unless they apologise in the Speaker's chamber. Later, Leader of Opposition Rameshwar Dudi, and senior Congress leader P Singh, who were earlier taken out by marshals on the directions of the Speaker, returned saying it was a move to “kill democracy” and the members should be brought back but the Speaker ruled it out. 

Ashok Gehlot appointed General Secretary of Gujarat Congress

Congress president Sonia Gandhi on Wednesday appointed former Rajasthan chief minister Ashok Gehlot as the new general secretary in-charge of BJP-ruled Gujarat. The state goes to polls in November-December, later this year. Gehlot replaces Gurudas Kamat, who had requested the party high command to relieve him of the charge since he was not able to give sufficient time to the poll-bound state. Kamat continues to be the general secretary in-charge of Rajasthan. As head of the party’s screening committee for the recent Punjab polls, Gehlot was credited with the “selection of right and winnable Congress candidates” in the state.
Congress has revamped the entire team in Gujarat by replacing the general secretary in-charge and appointing four new secretaries. "Congress President Sonia Gandhi has assigned the task of looking after Gujarat affairs to a new AICC team that includes general secretary in-charge Ashok Gehlot and four new AICC secretaries," AICC general secretary Janardan Dwivedi said. Among the new four AICC secretaries appointed for Gujarat affairs include former Youth Congress chief Rajeev Satav, Harshvardhan Sapkal, Varsha Gaikwad and Jeetu Patwari. The Congress is working overtime to put its act together and put up a stiff fight to the BJP in Gujarat, the home state of Prime Minister Narendra Modi.
Sachin Pilot‏, President of Rajasthan Congress wishes Mr Gehlot in tweet "My best wishes to @ashokgehlot51 ji for his new assignment in Gujrat. We shall all work together to defeat the BJP in the upcoming polls"

मुख्यमंत्री ने CRPF जवान रामेश्वर लाल एवं बन्नाराम की शहादत पर संवेदना व्यक्त की

मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने छत्तीसगढ़ के सुकमा में सोमवार को नक्सलियों के विरूद्ध मुठभेड़ में बलराजपुरा (श्रीगंगानगर) निवासी सीआरपीएफ के एएसआई श्री रामेश्वर लाल एवं नीमका थाना (सीकर) निवासी हैड कांस्टेबल श्री बन्नाराम की शहादत पर संवेदना व्यक्त की है। 
मुख्यमंत्री ने अपने संवेदना संदेश में कहा कि शहीद रामेश्वर लाल एवं शहीद बन्नाराम सहित सीआरपीएफ के सभी शहीद जवानों ने देश के लिए शहादत देकर अपने परिवार के साथ ही पूरे प्रदेश और देश का सिर गर्व से ऊंचा किया है। श्रीमती राजे ने ईश्वर से दिवंगत जवानों की आत्मा की शांति तथा शोक संतप्त परिजनों को यह आघात सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है। 

Delhi-Alwar rapid rail project to enable Delhi-Alwar travel in just 104 minutes

Delhi-Rewari-Alwar Regional Rapid Transport System project was today discussed with the stakeholders ahead of submission of Detailed Project Report for the approval of competent authorities. Making a presentation on the salient features of this important rail based RRTS project, Shri V.K.Singh, Managing Director of National Capital Region Transport Corporation (NCRTC) informed that the 180.50 km long project is estimated to cost Rs.37,539 cr. He further said that there will be 19 stations on the proposed alignment with the first 56 km involving 9 stations from ISBT Kashmeri Gate in Delhi to Cyber City in Haryana being underground and the remaining stretch of 124.50 km with 10 stations being elevated.
Shri V.K.Singh further informed that NCRTC is targeting approval for the Detailed Project Report (DPR) by the Board in the next two months and approval of  Delhi, Hayrana and Rajasthan Governments in another three months thereafter so that project work on the ground could be started within one year. With design speed of 180 kmph, operating speed of 160 kmph and average speed of 105 kmph, journey between Delhi and Alwar could be completed in just 104 minutes, Shri Singh stated. Frequency of services would be every five to ten minutes depending the time of the day. With 6 car combination to begin with , each train could carry 1,154 passengers. There will be no land acquisition issues since the entire corridor is underground and elevated.
Shri  Durga Shanker Mishra, Additional Secretary in the Ministry of Urban Development said that RRTS is a comfortable, safe and fast mode of travel and Delhi-Alwar RRTS would trigger economic development in the region including employment generation. He suggested to NCRTC to consider adding some more station on the 180.50 long stretch. He complimented NCRTC for ensuring convergence of Delhi-Alwar, Delhi-Meerut and Delhi-Panipat RRTS corridors at Sarai Kalekhan in Delhi thereby facilitating a seamless travel across three States.

Rajasthan add 288 MW Wind Power during 2016-17

Ministry of New and Renewable Energy (MNRE) has set another record in the wind power capacity addition  by adding over 5400 MW in 2016-17 against the target of 4000 MW.  This year’s achievement surpassed the previous higher capacity addition of 3.423 MW achieved in the previous year. The leading States in the wind power capacity addition during 2016-17 are Andhra Pradesh 2190 MW, followed by Gujarat 1275 MW and Karnataka 882 MW. In addition Madhya Pradesh, Rajasthan, Tamil Nadu, Maharashtra ,Telangana and Kerala have reported 357 MW, 288 MW, 262 MW, 118 MW , 23 MW and 8 MW wind power capacity addition respectively during 2016-17. These figures are tentative. During 2016-17 MNRE has taken various policy initiatives in the wind energy sector that includes Introduction of Bidding in Wind Energy Sector, Re -powering Policy, Draft Wind-Solar Hybrid Policy, New Guidelines for Development of Wind Power Projects, etc.

Rajasthan govt signs New MoU with HPCL for Barmer Refinery

State run HPCL and Rajasthan government today inked a revised MoU of Rs 43,129 crore for an oil refinery in Barmer district which will produce BS-VI fuel. The work on the refinery will commence in the current financial year and will complete in next four years, Union Oil Minister Dharmendra Pradhan told reporters here. It will be the largest industrial investment in the state, the minister said further. Under the new terms and conditions, the refinery cost has come down to Rs 16,845 crore, which was Rs 56,040 crore in the previous MoU done by the Congress government in 2013, Pradhan said. “It was a direct loss of Rs 40,000 crore to the state of Rajasthan in 15 years. In the previous MoU, the state had to give Rs 3,736 crore interest free loan every year for 15 years, which would have burdened the state finances,” Pradhan told reporters after signing of the MoU.

Some facts about HPCL Barmer Refinery:

  • Rajasthan government will have 26% stake in the refinery project while HPCL will have the rest shareholding. 
  • HPCL, in March 2013, had signed an MoU with the Rajasthan government for setting up the refinery-cum-petrochemical complex in the Thar desert near the oil discoveries made by Cairn India
  • The refinery however never took off as a Government changes in state and new government putting on hold the fiscal incentives for the project. 
  • HPCL, that had to spend Rs 37,230 crore under the previous deal, will now spend Rs 43,129 crore.
  • Refinery will produce BS-VI emission norms compliant fuel. The government plans to move to BS-VI emission norms by 2020. 
  • Oil field permission had to end in 2020 but we have provided permission to the refinery to run for 10 more years. 
  • Apart from 43,129 crore, additional Rs 27,000 crore investment will be made in the refinery, oil field and petro-chemical complex. Overall, Rs 70,000 crore worth investment will be made in next four years.