निहाल चन्द गोयल मुख्य सचिव नियुक्त

राज्य सरकार ने शनिवार को आदेश जारी कर अतिरिक्त मुख्य सचिव वन एवं पर्यावरण, पर्यटन, कला एवं संस्कृति श्री निहाल चन्द गोयल को राज्य का नया मुख्य सचिव नियुक्त किया है।  श्री गोयल अपने पद के कार्य के साथ-साथ अध्यक्ष, राजस्थान राज्य खान एवं खनिज निगम लिमिटेड राजस्थान, उदयपुर के पद का अतिरिक्त कार्यभार आगामी आदेशों तक संपादित करेगें।
श्री गोयल भारतीय प्रशासनिक सेवा के वर्ष 1982 बैच के अधिकारी है। वे अलवर, जैसलमेर जिलो के जिला कलेक्टर, राज्य के शिक्षा निदेशक, जयपुर विकास आयुक्त, जोधपुर के संभागीय आयुक्त, राज्यपाल के सचिव, जयपुर मैट्रो सी.एम.डी, प्रमुख शासन सचिव एवं अतिरिक्त मुख्य सचिव, दिल्ली, मुम्बई, इडस्ट्रीयल कोरीडोर सहित अनेक महत्वपूर्ण प्रशासनिक पदों पर सेवाएं दे चुके हैं। श्री निहालचन्द गोयल को मुख्य सचिव श्री अशोक जैन के सेवा निवृत होने पर राज्य का मुख्य सचिव नियुक्त किया है।

Dates for Ajmer, Alwar bypolls announced

Election Commission on Thursday announced by-elections to the Lok Sabha constituencies of Alwar and Ajmer as well as Mandalgarh assembly seat of Rajasthan on January 29, 2018. The counting will take place on February 1. The last date of filing nominations is January 10 and date for scrutiny is January 11. The last date of withdrawing candidature is January 15.
Bharatiya Janata Party's Alwar Member of Parliament Mahant Chand Nath had passed away on September 17 after a prolonged illness. Earlier, BJP's Ajmer MP Sanwar Lal Jat had collapsed in the MLAs and MPs meeting with BJP chief Amit Shah in Jaipur on July 22. Jat breathed his last at AIIMS, Delhi, on August 9. In the same month, BJP's Mandalgarh legislator Kirti Kumari passed away on August 28 in Jaipur while being treated for influenza A (H1N1) or swine flu.

राजस्थान अनुसूचित जनजाति आयोग 1 एवं 25 जनवरी को करेगा जनसुनवाई

जयपुर, 28 दिसम्बर। राजस्थान अनुसूचित जनजाति आयोग द्वारा सोमवार एक जनवरी एवं गुरूवार 25 जनवरी को जयपुर में जनसुनवाई की जायेगी। राजस्थान अनुसूचित जनजाति आयोग के सचिव श्री मुरारीलाल अग्रवाल ने बताया कि एक जनवरी  एवं 25 जनवरी को प्रातः 11 बजे से दोपहर एक बजे के मध्य आयोग कार्यालय 51/6 शिप्रा पथ, निरजा मोदी स्कूल के सामने मानसरोवर, जयपुर में अनुसूचित जनजाति वर्ग से सम्बन्धित समस्या की जनसुनवाई की जायेगी।

राजस्थान में रेजिडेंट डॉक्टर्स की हड़ताल खत्म

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग में गत् 16 दिसम्बर से प्रारम्भ सामुहिक अवकाश पर गये सेवारत चिकित्सक संघ एवं रेजिडेंट डॉटर्स के प्रतिनिधियो के साथ बुधवार को सीफू में आयोजित लगभग 8 घंटे  लंबी चली वार्ता के बाद समझौते पर हस्ताक्षर हो गए एवं इसके बाद हड़ताल समाप्ति की घोषणा कर दी गई।     
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री कालीचरण सराफ, विधायक श्री अशोक परनामी, सार्वजनिक निर्माण मंत्री श्री युनुस खान, सहकारिता मंत्री श्री अजय सिंह किलक, चिकित्सा राज्य मंत्री बंशीधर खंडेला, प्रमुख शासन सचिव श्रीमती वीनू गुप्ता, चिकित्सा शिक्षा सचिव आनंद कुमार के साथ हुई इस वार्ता में डॉ. अजय चौधरी के नेतृत्व में सेवारत चिकित्सक संघ व रेजिडेंट डॉक्टर्स के नेताओं ने भाग लिया।

CBI to probe Anandpal encounter case

Centre Government has given its nod for a CBI probe into the alleged encounter of gangster Anandpal in July, sources said. The Centre has reportedly informed the Home Department that the case is being handed over to the CBI. With the Centre’s nod for a CBI probe, the state government has breathed easy. The BJP state government had requested a CBI probe via a letter sent on July 24. However, the CBI rejected the request on November 15, citing lack of evidence in the case for initiating a probe. 
The state government again wrote to the central government on December 17 pleading that discontent among Rajputs was growing as their primary demand for a CBI investigation has not been accepted. The government warned in a letter that not ordering a CBI probe could worsen the law and order situation in the state. Anandpal Singh was killed in a police encounter in Malasar village of Churu district on June 24. His family members questioned the credibility of the encounter and claimed he was killed even though he wanted to surrender. The police officials in their defence said that he was asked to surrender several times, but he had opened fire on policemen.

मुख्यमंत्री गुजरात सीएम के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुई

26 दिसम्बर। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे मंगलवार को गुजरात के मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुईं । उन्होंने श्री रूपाणी को गुजरात का दूसरी बार मुख्यमंत्री बनने पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दीं।
श्रीमती राजे मंगलवार को प्रातः धौलपुर से रवाना होकर गुजरात के गांधीनगर पहुंची और यहां आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में भाग लिया। शपथ ग्रहण समारोह के दौरान मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को भी गुजरात विजय के लिए बधाई दी।

32 killed in Rajasthan bus accident

At least 32 people were killed and 10 injured when a passenger bus fell into a river on Saturday near Rajasthan's Sawai Madhopur, police said. The Sawai Madhopur-Lalsot bus was driven by a 16-year-old conductor who lost control due to over-speeding, officials said. The bus skidded and fell off a bridge into the Banas river. According to witnesses, the bus was trying to overtake another vehicle on the narrow bridge. All the injured were rushed to a nearby hospital, the police added.
The Prime Minister's Office has expressed grief over the incident and said the state government is closely monitoring the situation. "Anguished by the bus accident in Rajasthan's Sawai Madhopur district. My thoughts are with the families of the deceased. State Government is closely monitoring the situation, including rescue operations and providing all possible assistance to those affected: PM @narendramodi," the PMO tweeted. Rajasthan Chief Minister Vasundhara Raje also took cognizance of the incident and said she has instructed the officials to carry out speedy rescue operations. Congress President Rahul Gandhi also took to his Twitter handle to express grief over the incident and has asked the party's state unit to help in the rescue operations.

Valmiki community protest against 'Tiger Zinda Hai' in Rajasthan

Rajasthan saw massive protests against another Bollywood film, with members of the Valmiki community disrupting the morning shows of "Tiger Zinda Hai", a Salman Khan-Katrina Kaif starrer, in many cinema halls across the state on Friday in protest against the alleged use of a pejorative word by Salman during a promotional event. The protesters also filed a complaint at the Nahargarh police station.
The protesters alleged that Salman had insulted the Valmiki community by using "cheap language". Earlier, the protests started from Ajmer and soon reached Jaipur and Kota, leading to cancellation of the morning shows in several cinema halls of the film that released nationwide on Friday. The movie has been directed by Ali Abbas Zafar and comes as a sequel to Kabir Khan's blockbuster "Ek Tha Tiger". Earlier, protests had broken out against Sanjay Leela Bhansali's "Padmavati" for allegedly distorting history.

Rajasthan Government approves 1% reservation for Gurjars

Rajasthan Government on Thursday approved one percent reservation for 'Gujjars' and four other backward castes. With this initiation, the Gujjars can now seek benefits in educational institutions and job opportunities. The allotment of one percent reservation to five communities completes the 50 percent quota limit for reservations in Rajasthan. Earlier in October, the Rajasthan Government passed a bill, which increased Other Backward Classes (OBC) quota from 21 percent to 26 percent.
The Backward Classes (Reservation of Seats in Educational Institutions in the State and of Appointments and Posts in Services under the State) Bill provided reservation to the five "most backward" OBC communities, including Gujjars and four other communities- Banjara,Baldiya, Labana; Gadiya Lohar, Gadoliya; Raika, Rebari, Debasi and Gadariya, Gadri, Gayari, which were earlier grouped as the special backward classes (SBC). The government had tabled the Bill in Assembly's monsoon session this year to provide reservation in educational institutions and state jobs for the category of more backward classes within the backward classes.
However, with this quota of five percent to OBCs, the total percentage of various quotas has crossed 50 percent. Now, the total quota in Rajasthan stands at 54 percent- 26 percent for OBCs, 16 percent for SCs, and 12 percent for STs. This is in violation of the Supreme Court guidelines, which say the total quota in government jobs and educational institutes for different reserved categories in the state cannot go beyond 50 percent. Last year, the Rajasthan High Court had struck down government's attempt to grant five percent quota to Gujjars as it would have shot the overall reservation to 54 percent.

डॉ. दिगंबर सिंह का निधन

भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं बीस सूत्री कार्यक्रम (बीसूका) उपाध्यक्ष डॉ. दिगंबर सिंह का आज सुबह निधन हो गया है। वे पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे और उनका जयपुर के इटरनल हॉस्पिटल में उपचार चल रहा था, जिसके बाद उन्होंने आज सुबह इटरनल हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली। डॉ सिंह के निधन की खबर के बाद से भरतपुर सहित पूरे प्रदेश में शोक की लहर है। कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं डीग कुम्हेर विधायक विश्वेन्द्र सिंह ने डॉ. दिगंबरसिंह के निधन पर दुख जताया है। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दिगंबर सिंह के निधन पर शोक जताया है। 66 वर्षीय दिगंबर सिंह का शव अस्पताल से भरतपुर ले जाया जाएगा, जहां शाम 4 बजे अंत्येष्टि होगी।
भारतीय जनता पार्टी को पिछले तीन महीनों में यह एक और बड़ा धक्का लगा है, जब पार्टी के पांच बड़े नेताओं का निधन हो गया है। इससे पहले अजमेर सांसद एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री सांवर लाल जाट, अलवर सांसद चांदनाथ, मांडलगढ़ विधायक कीर्ति कुमारी और खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक शंभू दयाल बडगूजर का निधन हो गया था। दिगंबर सिंह के निधन से पार्टी को एक और बड़ा झटका लगा है।

भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें एवं परिवारजनों, प्रियजनों को इस मुश्किल घड़ी में साहस प्रदान करें। 

Rajasthan government passes bill raising OBC Reservation to 26% from 21%

Rajasthan Assembly on Thursday passed a bill to raise the reservation for Other Backward Classes (OBC) from 21% to 26%. With this, the total quota in the state for government jobs and seats in educational institutes increases to 54%, higher than the 50% ceiling set by the Supreme Court. The Backward Classes (Reservation of Seats in Educational Institutions in the State and of Appointment and Posts in Services under the State) Bill, 2017, seeks to provide 5 per cent reservation to Banjara, Baldiya, Labana; Gadiya Lohar, Gadoliya; Gujar, Gurjar; Raika, Rebari, Debasi and Gadariya, Gadri, Gayari. Under the new arrangement, there will be no SBC category as it does not have constitutional approval. Instead, there will be OBC and 'Most OBC' categories.

Rajasthan Police Constable Recruitment 2017, 5390 Posts, Apply ONLINE

Rajasthan Police Constable Recruitment 2017, 5390 Posts, Apply ONLINE: Office of Director General of Police, Rajasthan, Jaipur has announced notification for the recruitment of 5390 Constable (General), Constable (TSP/ Sahariya Kshetra) & Constable (Driver) Post. Eligible candidates may apply online on or before 21st November 2017. 
Police Constable Jobs = 5390 Post
Name of the Post:
1. Constable (General): 4684 posts
2. Constable (TSP/ Sahariya Kshetra): 402 posts
3. Constable (Driver): 304 posts
Qualification: Candidates should possess Secondary/ 8th Class/ 10th Class/ Equivalent from recognized School/ Board/ Higher Secondary with Physics & Maths/ Equivalent (10+2) from Recognized Board, LMV/ HMV Driving License for Constable Driver Posts.
Selection Process: Candidates will be selected on the basis of Written Exam, Physical test, Efficiency test & Medical test.
Application Fee: Candidates have to pay Rs.400/- for General, OBC & Out of Rajasthan, Rs. 350/- for SC/ ST candidates of Rajasthan through Net Banking/ Debit card/ Credit card/ E-Mitra Kiosk (Rs. 26/-).
How to Apply: Eligible candidates may apply through the website www.police.rajasthan.gov.in on or before 21-11-2017 till 12:00 PM.
Important dates:
Start date of Online apply: 23rd October 2017
Last Date to Apply Online: 21st November 2017 till 12:00 PM
Tentative Date for Downloading Admit card: 25th November 2017
Tentative Date for Exam First Week of December 2017

किशनगढ़ एयरपोर्ट का उद्घाटन

मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे एवं केन्द्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री श्री जयंत सिन्हा ने आज, 11 अक्टूबर 2017 को अजमेर जिले में किशनगढ़ एयरपोर्ट का उद्घाटन करेंगे । उल्लेखनीय है कि किशनगढ़ एयरपोर्ट की नींव तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने वर्ष 2013 में की थी। उसके बाद आज यह एयरपोर्ट बनकर तैयार हो गया है, जिसका मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे  उद्घाटन करेंगी। किशनगढ़ एयरपोर्ट के लिए भूमि अधिग्रहण का काम राज्य सरकार और एयरपोर्ट निर्माण का काम भारत सरकार के द्वारा किया गया है। इस एयरपोर्ट के बनने से सीधे अजमेर से दिल्ली और दिल्ली से सीधे अजमेर का हवाई सफर आसान और सुलभ हो जाएगा। 
किशनगढ़ एयरपोर्ट आधुनिक एवं कम लागत में तैयार एयरपोर्ट है, जिस पर देश के दूसरे राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डों जैसी सुविधाएं विकसित की गई हैं। एयरपोर्ट की टर्मिनल बिल्डिंग की क्षमता 150 यात्रियों की है। इसमें एलईडी लाइटिंग सिस्टम, फायर अलार्म सिस्टम, केन्द्रीयकृत पेयजल सुविधा, पैसेंजर लिफ्ट, रेस्टोरेन्ट आदि सुविधाओं के साथ 6 चैक-इन काउंटर स्थापित किए गए हैं। फोर-लेन की सड़क टर्मिनल बिल्डिंग को सीधे एन.एच.-8 से जोड़ेगी। अजमेर जिले में धार्मिक स्थली पुष्कर एवं ख्वाजा साहब की दरगाह के कारण देशी और विदेशी पर्यटकों का आना-जाना लगा रहता है। इसके अलावा किशनगढ़ एक बहुत बड़ा मार्बल हब बन चुका है। किशनगढ़ के नए एयरपोर्ट के बाद अजमेर शहर अब महत्त्वपूर्ण पर्यटन स्थलों से हवाई मार्ग से जुड़ जाएगा। 

राजस्थान छात्रवृत्ति वेबसाइट 1 नवम्बर से 31 दिसम्बर, 2017 खुलेगी

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के निदेशक डॉ. समित शर्मा ने वीडिया कॉन्फ्रेंस में उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति की स्वीकृतियां एवं भुगतान की समीक्षा करते हुए बताया कि शिक्षा सत्र 2017-18 के उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति के आवेदन पत्र ऑनलाइन भरने के लिए एक नवम्बर से 31 दिसम्बर, 2017 तक पोर्टल खोला जायेगा।  उन्होंने जिला अधिकारियों को निर्देश दिये कि वर्ष 2012-13 से 2014-15 तक लंबित छात्रवृत्तियों के प्रकरणों को 31 अक्टूबर, 2017 तक हर संभव निस्तारण करने का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा। जो अधिकारी इसमें देरी करेगा उनको चार्जशीट दी जायेगी। उन्होंने बताया कि विभाग का प्रयास है कि जिस वर्ष की छात्रवृत्ति उसी वर्ष छात्र को मिले इसके लिए सभी को गम्भीरता से काम करना है। उन्होंने ओबीसी एवं ईबीसी की छात्रवृत्तियों के तत्काल निस्तारण के निर्देश दिये। 
उन्होंने प्रदेश में संचालित पं. दीनदयाल उपाध्याय विशेष योग्यजन प्रमाणीकरण शिविरों की समीक्षा करते हुए कहा कि यह प्रमाणीकरण शिविर दो चरणों में 25 सितम्बर से 31 अक्टूबर, 2017 एवं एक नवम्बर, 2017 से 31 दिसम्बर, 2017 तक। प्रथम चरण में 5 प्रकार के विशेष योग्यजनों का प्रमाणीकरण, यू.डी.कार्ड एवं निःशक्तता प्रमाण पत्र जारी किये जायेंगे। दूसरे चरण में सभी 21 तरह के विशेष योग्यजनों को निःशक्तता प्रमाण पत्र जारी किये जायेंगे। उन्होंने जिला अधिकारियों को निर्देश दिये कि अपने जिले में पंजीकृत विशेष योग्यजनों का आनलाइन चिकित्सा विभाग को फॉरवर्ड करें। 

GRAM 2017 in Udaipur from 7 to 9 November 2017

Rajasthan State Cabinet in its meeting on 4th October took various important decisions including organization of GRAM 2017 in Udaipur from November 7 to 9, organising campaign to provide lease in rural areas, generating new posts of ECG Technician and Boiler Attendant. The cabinet also reviewed the works done in second phase of MJSA and workplan for the third phase of MJSA. The Cabinet Meeting was presided over by Chief Minister Smt. Vasundhara Raje.  Briefing the media after the cabinet meeting Parliamentary Affairs Minister Shri Rajendra Rathore informed that after successful organization of GRAM in Jaipur and Kota (24-26 May 2017) the third GRAM will be held at Maharana Pratap University of Agriculture & Technology, Udaipur where 30 thousand farmers will learn the innovations made in Agriculture sector. Shri Rathore said the Cabinet also gave approval to the proposal related to start campaign to provide lease for houses built on the government land in rural areas. 
The Parliamentary Affairs Minister informed that six Bills shall be presented in the coming session of Rajasthan Legislative Assembly. The Rajasthan State Electricity Distribution Management Responsibility Bill-2017, The Rajasthan Land Revenue Amendment and Validation (Repeal) Bill-2017, The Rajasthan Relief Undertakings (Special Provisions) (Amendment) Bill-2017, The Rajasthan Legislative Assembly Members (Prevention of Disqualification) Bill-2017, The Code of Criminal Procedure (Rajasthan Amendment) Bill-2017 and The Criminal Laws (Rajasthan Amendment) Bill-2017 shall be presented in the coming Assembly session.

Rajasthan government announces DA hike and Diwali Bonus

Jaipur, October 3. On the initiative of the Chief Minister Smt. Vasundhara Raje the state government on Tuesday announced 3 percent hike in the Dearness Allowance (DA) of the government employees. Another gift was offered to the state employees in the form of adhoc bonus for Diwali. According to the orders issued to these effects, the Dearness Relief (DR) for the pensioners has also been increased by 3%. Nearly 8 lakh employees and 3.5 lakh pensioners would be benefited by this increase in DA and DR. On the other hand, for the year 2016-17, the benefit of adhoc bonus would be given to the employees having Annual Grade Pay of Rs. 4,800 or less. It would be calculated on the basis of paying Rs. 7,000 for 31 days of the month. Thus, any employee would get Rs. 6,774 as ad hoc bonus to the maximum.
Presently, the state government employees are given DA at the rate of 136% of the basic salary and after the hike 3% it will become 139%. The increase in DA would be effective from July 1, 2017 and it would be paid in cash from October 2017. The arrears on account of the increased DA from July 1, 2017 to September 30, 2017 would be credited in the GPF accounts of the employees. For the employees appointed on or after January 1, 2004 the arrears of the hiked DA would be paid in cash. The increased DR to the pensioners and family pensioners would be paid in cash.  The DA hike and ad hoc bonus both would be applicable for the work-charge employees, employees of the Panchayat Samitis and Zila Parishads as well. This hike in DA or DR would cost Rs. 320 crore to the state exchequer additionally during the current financial year. The bonus, however, would put the additional burden of Rs. 406 crore.

Rajiv Mehrishi takes over as CAG of India

Former home secretary Rajiv Mehrishi took over as the Comptroller and Auditor General (CAG) of India today. He succeeded Shashi Kant Sharma, who demitted office on Friday, officials said. President Ram Nath Kovind administered the oath of office and secrecy to Mehrishi (62) at a function in Rashtrapati Bhavan, which was attended by Vice President M Venkaiah Naidu and Prime Minister Narendra Modi among other dignitaries, they said. A press communique by the president's office said, "Rajiv Mehrishi was sworn in as the Comptroller and Auditor-General of India at a ceremony held at Rashtrapati Bhavan. He took and subscribed to the oath of office before the President."  He will have a tenure till August 7, 2020, it said.
Mehrishi, a 1978 batch (retired) Indian Administrative Service (IAS) officer of Rajasthan cadre, completed his two- year fixed term as the home secretary last month. His predecessor Sharma had taken over as the CAG on May 23, 2013. He was defence secretary prior to his appointment as the CAG. Mehrishi, who hails from Rajasthan, holds Master of Business Administration degree from the University of Strathclyde, Glasgow (UK). He also possess Master of Arts (MA) and Bachelor of Arts (BA) degrees from Delhi University. Mehrishi has held several posts in both his state cadre Rajasthan and in the Centre. Before his appointment as the home secretary, he worked as economic affairs secretary and chief secretary of Rajasthan. Mehrishi has also worked as secretary in departments of chemicals and fertilisers, and Overseas Indian Affairs.

राजस्थान विधानसभा सत्र 23 अक्टूबर 2017 से

जयपुर, 25 सितम्बर। राज्यपाल श्री कल्याण सिंह ने एक आज्ञा जारी कर चौदहवीं राजस्थान विधानसभा का नवम सत्र सोमवार 23 अक्टूबर को प्रातः 11.00 बजे से आहूत किया है ।           
इस संबंध में राजस्थान विधानसभा सचिवालय द्वारा अधिसूचना प्रकाशित करवा दी गयी है।

शहीद गणपत राम कड़वासरा को नमन

राजस्थान में ओसियां तहसील के खुडियाला गाँव के वीर सपूत गणपत राम कड़वासरा (Ganpat Ram Kadwasra)  मातृभूमि की रक्षा करते हुए शहीद हुए हैं। शहीद गणपत राम का यह देश सदैव ऋणी रहेगा। उनकी शहादत को शत शत नमन।

ओसियां के इस वीर सपूत शहीद श्री गणपत राम का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार दिनांक 26.09.2017 को सुबह 11 बजे पैतृक गाँव खुडियाला (ओसियां) में किया जायेगा।

Falahari Baba arrested in Alwar, Rajasthan

Rajasthan Police today arrested self-styled godman Kaushalendra Prapannacharya 'Falahari' Maharaj from Alwar on charges of raping a 21-year-old woman. Rahul Prakash, Superintendent of Police Alwar, confirmed the news. The baba has been arrested under Section 376 (rape) and section 506 (criminal intimidation). Prakash said that baba was taken to a government hospital for a medical check up and he was found fit and healthy. He was then presented before a magistrate from where he was sent to judicial custody till October 6.
The young woman from Chhattisgarh alleged she had been raped by the 70-year-old godman at his ashram in Alwar in Rajasthan on 7 August. Her family has been the Baba's follower for over 15 years and claimed to have given large donations to the godman. Facing sexual assault accusations, the Baba got himself admitted in the Intensive Care Unit (ICU) of a private hospital in Alwar on Wednesday under police security. On Friday, doctors at the hospital found him fit and he was shifted to a private ward. The Baba has followers both in India and abroad.

Cabinet approves transfer of Hotel Jaipur Ashok to Rajasthan Government

Cabinet Committee on Economic Affairs (CCEA) chaired by the Prime Minister Shri Narendra Modi has given its approval to the transfer of Hotel Jaipur Ashok, Jaipur and Lalitha Mahal Palace Hotel, Mysore, units of India Tourism Development Corporation Ltd (ITDC) to Government of Rajasthan and Government of Karnataka, respectively and disinvestment of ITDCs shares in M/s Donyi Polo Ashok Hotel Corporation.  
As per disinvestment policy of the Government of India, it has been decided to lease/sub-lease the ITDC hotels/ properties jointly with the States and where States have not agreed to the proposal of leasing/sub-leasing, the properties may be returned back to the States at their officially valued price. The policy has been formulated keeping in view that running and managing hotels on professional lines is not the job of Government or its entities.  In pursuance of the disinvestment policy of the Government, the Ministry of Tourism has to date transferred the properties/units of Hotel Lake View Ashok, Bhopal, Hotel Brahmaputra Ashok, Guwahati, Hotel Bharatpur Ashok, Bharatpur to the concerned State Governments. In addition, ‘in principal’ approval for transfer of Hotel Janpath, New Delhi to Ministry of Urban Development, Government of India has also been accorded by the CCEA.
In continuation of the aforesaid disinvestment policy of the Government, the CCEA has decided to further disinvestment by way of transfer of properties of Hotel Jaipur Ashok, Jaipur and Hotel Lalitha Mahal Palace, Mysore, units of ITDC to the State Governments of Rajasthan and Karnataka respectively. Further, CCEA has also decided that ITDC would disinvest its 51% equity shares in M/s Donyi Polo Ashok Hotel Corporation Ltd., the joint venture company running Hotel Donyi Polo Ashok, Itanagar, in favour of the Government of Arunachal Pradesh.

VASTRA 2017 inaugurated in Jaipur

Jaipur, 21 September: Textile industry in the country is growing exponentially with the Foreign Direct Investment (FDI) having tripled in 3 years. It has touched the figure of USD 618.95 million in 2016-17. However, there is still a huge potential for further growth in the sector for which multifarious efforts are being made by the Centre as well as different States. This was stated by the Chief Guest, Union Textiles & Information and Broadcasting Minister, Smt. Smriti Zubin Irani today. She was speaking at the Inaugural Ceremony of the 6th Edition of the 4-day International Textile and Apparel Fair, ‘Vastra’ at the Sitapura based Jaipur Exhibition and Convention Centre (JECC) in Jaipur.  
‘Vastra 2017’ has been jointly organised by Rajasthan State Industrial Development and Investment Corporation Ltd. (RIICO) and Federation of Indian Chamber of Commerce and Industry (FICCI), VASTRA has created a niche for itself in textiles and apparel industry since its inception in 2012. The event is also supported by the Government of Rajasthan.
The Union Minister further stated that the textile sector employs the 2nd largest workforce in the industry with 45 million Indians directly and 20 million Indians being indirectly employed. However, concerted efforts are being made for creating further avenues by living up to the Prime Minister’s vision of ‘Make in India’. The Government is providing skilling opportunities as well as incentives to give an impetus to the industry. The financial support to the weavers under the ‘Mudra Yojna’ has documented evidence of increase in income of the weaver to the tune of 50-60%. Ms. Irani appreciated the efforts of the State Government in making Rajasthan a garment hub. She said that the Jaipur Designers Festival which is being held in the ‘Vastra’ for the first time will go a long way in providing an opportunity to the younger generation by providing them an exposure to the world of fashion and designing. She also appreciated that a  ‘Sari Draping Workshop’ is being organized during Vastra. The audience of the workshop will get an opportunity to revisit ethnic Indian women clothing through this workshop. 

Pehlu Khan’s kin want case transferred out of Rajasthan

A day after the Rajasthan Police cleared six people whom mob-lynching victim Pehlu Khan had named as accused in his dying declaration, the family of the deceased has demanded that the case be transferred outside the State. Addressing a press conference at Congress leader Digvijaya Singh's house in Delhi on Friday, Khan’s elder son Irshad said his family was facing threats at the local court in Behror, Rajasthan. Meanwhile, activists including those from the PUCL (People's Union for Civil Liberties) have been demanding the arrest of the six named by Khan in his dying declaration, insisting that they were the main conspirators.
In April, Pehlu Khan was brutally beaten up by a mob of cow vigilantes in Rajasthan's Alwar district. Before dying in hospital he had named six people as being responsible. Khan and four others were injured when a mob attacked nearly 15 persons hailing from Haryana, while transporting cows in vehicles on the Behror highway in Alwar district. As many as 16 people were allegedly transporting 36 bovine animals illegally in six pick up vans.

Farmers call off 13-day long protest, Rajasthan Govt announces Rs 20,000 Crore loan waiver

Farmers have called off their 13-day long protest in Rajasthan after the agreement with the state government Wednesday late night.  Along with this, three day long ChakkaJaam has also been withdrawn by the farmers. Rajasthan government has announced a farm loan waiver of Rs 20,000 crore. The state will waive all farmer loans over Rs 50,000. After study of other states by a high level committee. The committee will submit its report within a month after consultation with all stakeholders. After the announcement, farmers called off protests in Sikar, which were on for 13 days.
The goverment has also been agreed on the farmer's other demands, including electricity at subsidized rates and ensuring the safety of animal traders. On Thursday, after three days, traffic has started on many routes including Sikar and Jhunjhunu. “We regret the inconvenience caused to people due to the stir and asked farmers to end the sit in,” said Communist Party of India (Marxist) MLA Amraram, who was among those representing the farmers.


मंत्रिमंडल ने BSNL से अलग कम्‍पनी बनाने को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) के मोबाइल टॉवर संसाधनों को बीएसएनएल की पूर्ण स्‍वामित्‍व वाली एक अलग कम्‍पनी में सम्मिलित करने को अपनी मंजूरी दे दी है। इस मंजूरी से बीएसएनएल एक अलग सहायक कंपनी बनाकर अपनी दूर-संचार टावर और संरचना तैयार करने के लिए अधिकृत हो गया है। देश में लगभग 4,42,000 मोबाइल टावर हैं, जिसमें से 66,000 से भी अधिक मोबाइल टावर बीएसएनएल के हैं। बीएसएनएल की एक स्‍वतंत्र, समर्पित टावर कंपनी की केंद्रित पहुंच से बाहरी किराए में वृद्धि होने के साथ-साथ नई कम्‍पनी के लिए अधिक धन अर्जित होगा।
दूरसंचार टावर उद्योग बुनियादी सुविधा की हिस्‍सेदारी के लिए संभावना से लाभ प्राप्‍त करने हेतु एक स्‍वतंत्र व्‍यवसाय के रूप में उभरा है। व्‍यवसाय का यह प्रारूप, ऊंची अर्थव्‍यवस्‍था तक पहुंचने की जरूरत और मोबाइल सेवा प्रदान करने में पूंजीगत निवेश में कमी लाने की सोच से उत्‍पन्‍न हुआ है। दूरसंचार विभाग की नीति सकारात्‍मक सुविधा की हिस्‍सेदारी की अनुमति देती है, जैसे – टावर संरचना, डीज़ल जनरेटर सेट, बैट्री यूनिट, पावर इन्‍टरफेस यूनिट, एयर कंडीशन आदि, जिससे दूरसंचार और संरचना उद्योग के विकास में आसानी हुई है। एक टावर और संरचना कंपनी अनिवार्य रूप से सकारात्‍मक अवसंरचना संसाधन की स्‍वामी होती है और दूरसंचार सेवा प्रदाताओं को पट्टे पर उपलब्‍ध कराती है ताकि वे बार-बार के निवेश से बचें और संचालन तथा रखरखाव की लागत पर अधिक धन लाभ प्राप्‍त कर सकें तथा उनका मुनाफा बढ़े।
 बीएसएनएल और एमटीएनएल के मॉडल के अलावा, जिसमें सेवा प्रदाता अपनी सकारात्‍मक अवसंरचना के भी स्‍वामी होते है, दूरसंचार टावर उद्योग में तीन भिन्‍न व्‍यवसाय प्रारूप होते है:- ऐसी कंपनियां जो सेवा प्रदाताओं के टावर संसाधन पोर्टफोलियो को सहायक कंपनियों में शामिल करके तैयार हुई हैं, सेवा प्रदाताओं द्वारा संयुक्‍त रूप से स्‍वतंत्र संयुक्‍त उपक्रम के रूप में स्‍थापित कंपनियां और ऐसी कंपनियां जो विशेष सेवा प्रदाताओं द्वारा आगे लाई गई है किन्‍तु टावर कंपनी के लिए एक प्रमुख किराएदार होने के कारण प्रोमोटर के साथ स्‍वतंत्र कारोबार के रूप में स्‍थापित हुई है।

केंद्रीय कर्मचारियों का DA 1% बढ़ा

केंद्र सरकार ने कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में 1 प्रतिशत की बढ़ोतरी कर इसे 5 प्रतिशत कर दिया है, इसका फायदा करीब 50 लाख कर्मचारियों और 61 लाख पेंशनभोगी लोगों को होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में यह निर्णय लिया गया। नई दर 1 जुलाई से लागू होगी। कैबिनेट की बैठक में एक संशोधन बिल को भी मंजूरी दी गई, जिसके तहत औपचारिक क्षेत्र के कर्मचारियों के लिए कर-मुक्त ग्रैच्युटी को 20 लाख रुपये करने का प्रावधान है। कर मुक्त ग्रैच्युटी की मौजूदा ऊपरी सीमा 10 लाख रुपये है। इस अधिनियम का मुख्य उद्देश्य सेवानिवृत्ति के बाद कर्मचारियों को सामाजिक सुरक्षा, प्रदान करना है।

राजस्थान के अन्य शहरों में फैला सीकर किसान आंदोलन

राजस्थान के सीकर में हजारों किसानों ने विभिन्न मांगों को लेकर निकाली किसान राजस्थान के शेखावाटी क्षेत्र में विगत कुछ दिनों से शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन कर रहे हैं। अखिल भारतीय किसान सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमराराम के नेतृत्व में चल रहे महापड़ाव की गूंज अब राजस्थान के दूसरे जिलों में सुनाई देनी लगी है। वहां के किसान और किसान संगठन भी किसानों की इन मांगों के पूरे नहीं होने पर गुस्से में है। वे आंदोलन को समर्थन दे रहे हैं। कुछ महीने पहले भी सरकार की ओर से बढ़ाई बिजली दरों को लेकर भी पूरे प्रदेश में इसी तरह के किसान आंदोलन चले थे। तब सरकार ने घबराकर किसानों की बिजली दरें वापस ली। अब फिर से वैसा ही आंदोलन फिर से शुरु हुआ है। सीकर से शुरू हुआ यह आंदोलन अब धीरे धीरे राजस्थान के 14 ज़िलों में फैल गया है। सीकर में रोज़ सभाएं हो रही हैं, रात को सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हो रहा है। दस सितंबर को ज़िले के प्रभारी मंत्री से सीकर सक्रिट हाउट में बातचीत हुई मगर असफल रही।  उसके बाद किसानों ने चक्का जाम का फैसला किया। 
भारतीय किसान संघ के नेतृत्व में हो रहे  किसान आंदोलन की अगुवाई पूर्व विधायक अमराराम और पेमाराम कर रहे हैं। निर्दलिय विधायक हनुमान बेनीवाल एवं राजपा नेता किरोड़ी लाल मीणा ने भी आंदोलन को समर्थन दिया है। श्रीगंगानगर में आंदोलन कर रहे किसानों को सोमवार को सामाजिक कार्यकर्ता योगेन्द्र यादव ने संबोधित किया,उन्होंने स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने की मांग करते हुए कहा कि इस देश में किसानों के साथ अन्याय हो रहा है । बीकानेर,चूरू,झुंझुनूं जिलों में भी भारतीय किसान संघ के नेतृत्व में किसानों ने महापड़ाव डाल रखा है । इस आंदोलन की सबसे खास बात यह है कि बीजेपी के समर्थक माने जाने वाले छोटे व्यापारियों का भी समर्थन किसानों को मिल रहा है। प्रदर्शनकारी किसानों का कहना है कि उन्हें 3 रुपए किलो प्याज खरीदकर बाजार में ग्राहकों को 30 रुपए किलो में बेचा जा रहा है।  उन्हें इस वजह से फसल की सही कीमत नहीं मिल रही है। फसल की सही कीमत नहीं मिलने की वजह से किसान बैंकों और स्थानीय साहूकारों से लिए गए कर्ज को लौटाने में असमर्थ हैं। 
किसानों की यह भी मांग है कि मोदी सरकार स्वामीनाथन समिति की सिफारिशों को लागू करे, जिसमें यह कहा गया था कि किसानों को फसल उत्पादन की लागत पर 50 फीसदी का लाभ मिलना चाहिए और हाल के दिनों में जो पशु बिक्री के लिए कानून बनाए गए हैं उनमें संसोधन किया जाए। पीएम मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनावों में इस समिति की सिफारिशों को लागू करने का वादा भी किया था। किसानों की भारी भीड़ को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल की तैनीती हुई है। चुनावी साल में राजस्थान में रोजगार एवं सरकारी नौकरी के मुद्दे पर विरोध झेल रही वसुंधरा सरकार के लिए किसान एक नई परीक्षा है। 

कांता ग्वाला जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय की पहली महिला अध्यक्ष बनी

NSUI की कांता ग्वाला ने इतिहास रचते हुए जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय (JNVU) छात्रसंघ चुनाव जीत लिया है और पहली महिला अध्यक्ष बनी है। एनएसयूआई ने एक तरफा मुकाबले में एबीवीपी के राजेन्द्र सिंह को 2458 मत से पराजित किया। कांता ग्वाला ने अकेले ही 51.38 फीसदी मत हासिल किए। हुक्माराम उपाध्यक्ष, एबी अशोक भाटी महासचिव व दिनेश विश्नोई संयुक्त महासचिव चुने गए। NSUI ने अध्यक्ष पद समेत सभी चारों पदों पर विजयश्री प्राप्त कर न केवल परचम फहराया, बल्कि ABVP के लगातार तीन साल के वर्चस्व को तोड़ अपेक्स की चारों सीटों पर कब्जा जमाया। एनएसयूआई के खेमे में खुशी की लहर है।
28 अगस्त को हुए छात्रसंघ चुनाव के दौरान 49.05 प्रतिशत मतदान हुआ था। यह पिछले साल से करीब तीन प्रतिशत ज्यादा है। चुनाव में एनएसयूआई की कांता ग्वाला ने एबीवीपी के राजेंद्रसिंह को 2458 वोटों के अंतर से हराया। कांता को 4911 तथा राजेंद्रसिंह को 2453 वोट मिले। वरिष्ठ उपाध्यक्ष पद पर एनएसयूआई के हुकमाराम ने 2559 मतों के मुकाबले अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी शौरभ व्यास को 1626 मतों से पराजित किया। इसी प्रकार एनएसयूआई के ही महासचिव पद के उम्मीदवार एबी अशोक भाटी व संयुक्त महासचिव पद पर दिनेश बिश्नोई ने विजय पताका फहराई। कांता ग्वाला ने जीत के बाद एक विस्तृत फेसबुक पोस्ट में सभी छात्रों को धन्यवाद दिया एवं सभी को जीत के लिए तहेदिल से कोटि-कोटि बधाई दी।

पवन यादव बने राजस्थान विश्वविद्यालय के अध्यक्ष

राजस्थान विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में निर्दलीय उम्मीदवार पवन यादव अध्यक्ष पद पर निर्वाचित हुए हैं। उन्होंने 2656 वोटों से एबीवीपी के संजय माचेड़ी के हराया। राजस्थान में विभिन्न शिक्षण संस्थानों में छात्रसंघ चुनाव 28 अगस्त को हुए थे एवं चुनाव परिणाम 4 सितम्बर को जारी किये गए। पहली बार चुनाव और परिणाम के बीच 7 दिन का अंतराल दिया गया है। राजस्थान विश्वविद्यालय के प्रमुख कॉलेजों के छात्रसंघ चुनाव के परिणाम निम्न है: 

  • महाराजा कॉलेज, जयपुर
    • अध्यक्ष: हर्षवर्धन सिंह राठौड़
    • उपाध्यक्ष: चंद्रप्रकाश कुमावत
    • महासचिव: राधेश्याम धाकड़
    • संयुक्त सचिव: ललित किशोर सैनी
  •  महारानी कॉलेज, जयपुर 
    • अध्यक्ष: नेहा यादव
    • महासचिव: संगीता
    • उपाध्यक्ष: जेबू निशा
    • सयुक्त सचिव: पूनम सावरिया
  • कॉमर्स कॉलेज, जयपुर 
    • अध्यक्ष: आकाश राठौर 
    • उपाध्यक्ष: रोहित मीणा
    • जनरल सेक्रेटरी: मनोज मीणा
    • ज्वॉइंट सेक्रेटरी: तन्मय जैन
  • राजस्थान कॉलेज, जयपुर
    • अध्यक्ष: महेंद्र देगड़ा
    • उपाध्यक्ष: शिव प्रसाद
    • महासचिव: राहुल शर्मा
    • संयुक्त सचिव: आकाश मीणा
  • फाइव ईयर लॉ कॉलेज, जयपुर
    • अध्यक्ष: विक्रम स्वामी
    • उपाध्यक्ष: हर्ष कुमार
    • महासचिव: वसुधा दीक्षित
  • लॉ कॉलेज मॉर्निंग, जयपुर
    • अध्यक्ष: भरत राज चौधरी
    • उपाध्यक्ष: अमरजीत सिंह
    • महासचिव: मानसिंह महरिया
  • लॉ कॉलेज ईवनिंग, जयपुर
    • अध्यक्ष: शशांक सिंह
    • उपाध्यक्ष: मुरारी सिंह
    • महासचिव: मुकेश कुमार
    • संयुक्त सचिव: मुकेश शर्मा
  • SMS मेडिकल कॉलेज, जयपुर 
    • अध्यक्ष: डॉ.रवि कुमार
    • उपाध्यक्ष: डॉ.महेंद्र जोरवाल
    • संयुक्त सचिव: डॉ. मुकेश कुमार

गजेंद्र सिंह शेखावत बने कृषि राज्य मंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 3 सितम्बर 2016 को अपनी कैबिनेट का विस्तार किया है। 3 साल के कार्यकाल में मोदी का यह तीसरा मंत्रिमंडल विस्तार है। इस मंत्रिमंडल विस्तार में 9 नए चेहरों को शामिल किया गया है। मोदी कैबिनेट में राजस्थान के जोधपुर से लोकसभा सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत को कृषि राज्य मंत्री बनाया गया है। गजेंद्र सिंह राजस्थान के जोधपुर से लोकसभा सांसद हैं। 
जैसलमेर में जन्मे गजेंद्र सिंह शेखावत ने छात्र राजनीति से अपना राजनीति कॅरियर शुरू किया। वे जोधपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र से 16वीं लोकसभा में भाजपा सांसद हैं। 

PM lays foundation stone for several major highway projects at Udaipur

Prime Minister, Shri Narendra Modi, today inaugurated, and laid the foundation stone, of several major highway projects at Udaipur in Rajasthan. Speaking on the occasion, the Prime Minister said he is delighted to be in the "Veer Bhumi" of Mewar. The Prime Minister assured people affected by natural calamities, that the Union Government stood by them at this hour of difficulty, and expressed confidence that the people would overcome the challenges, and march forward with even greater vigour.
The Prime Minister said that projects worth over 15000 crore are either being Inaugurated, or initiated (foundation stone being laid) today, in a single function. The Prime Minister said that infrastructure projects are crucial to the progress of the country. He said India can no longer afford delay in infrastructure projects, especially connectivity projects. He said projects such as roads, infuse new energy in the lives of the people. The Prime Minister recalled the Golden Quadrilateral initiated by former Prime Minister Shri Atal Bihari Vajpayee, and said it benefited farmers by connecting them to markets. He said Rajasthan could benefit a lot from tourism, through better infrastructure connectivity, which would bring in employment.
The Prime Minister spoke about the Pradhan Mantri Ujjwala Yojana, under which LPG connections are being given to rural households, which will especially benefit women. The Prime Minister said GST had hugely benefited the nation's economy, by eliminating long waiting times at inter-state borders. The Prime Minister later visited the Pratap Gaurav Kendra, which celebrates the life, valour and achievements of Maharana Pratap, the great King of the erstwhile kingdom of Mewar. 

सवाई भोज मंदिर के महंत भूदेव दास का निधन

भीलवाड़ा के आसींद स्थित सवाई भोज मंदिर के महंत भूदेव दास जी का निधन हो गया है। उन्होंने गुर्जर समाज के समाज सुधारक के रुप मे भी कई कदम उठाए तथा समाज को आगे बढ़ाने में बहुमूल्य योगदान दिया। उनका निधन गुर्जर समाज तथा मानवता के लिए बड़ी क्षति हैं जिसे पूरा नहीं किया जा सकता। उनका अंतिम संस्कार 30 अगस्त को दोपहर में आसीन्द में किया जायेगा।
मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने भीलवाड़ा के आसींद स्थित सवाई भोज मंदिर के महंत भूदेव दास जी के देवलोकगमन पर शोक व्यक्त किया है।  श्रीमती राजे ने अपने संवेदना संदेश में कहा कि महंत भूदेव दास जी मानव मात्र के कल्याण और उत्थान के लिए सदैव समर्पित रहे। उन्होंने कहा कि स्वर्गीय महंत जी ने सामाजिक जनचेतना जाग्रत करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया और उनका निधन समाज के लिए एक बड़ी क्षति है। मुख्यमंत्री ने सभी श्रद्धालुओं को यह आघात सहन करने की शक्ति प्रदान करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।

जयपुर व टोंक जिले के लिए सेना भर्ती रैली 3 से 14 दिसम्बर तक आमेर में

जयपुर एवं टोंक जिले के युवा अभ्यर्थियों के लिए सेना भर्ती रैली का आयोजन 3 दिसम्बर से 14 दिसम्बर, 2017 तक सीआईएसएफ ग्राउंड कुण्डा आमेर में किया जाएगा। सेना भर्ती रैली के निदेशक कर्नल विक्रम सिंह पठानियां ने बताया कि इस सेना भर्ती के लिए जयपुर व टाेंक जिले के उम्मीदवारों का ऑनलाईन रजिस्टे्रशन एक सितम्बर, 2017 से 15 अक्टूबर, 2017 तक होगा। यह रजिस्टे्रशन भारतीय सेना की वेबसाईट www.joinindianarmy.nic.in पर करवाया जा सकता है। उम्मीदवारों को उनके प्रवेश-पत्र संबंधित ई-मेल आईडी पर 17 अक्टूबर, 2017 को भेज दिए जाएंगे। उम्मीदवारों को सलाह दी गई है कि वे अपने प्रवेश-पत्र को लेजर प्रिन्टर द्वारा ही प्रिन्ट करें, साथ ही इसे मोड़े नहीं क्योंकि इन पर अंकित बार कोड नम्बर का मशीन द्वारा रैली में प्रवेश के समय सत्यापन किया जाएगा।  

Rajasthan signs JV pact with HPCL for Barmer refinery

Rajasthan government on 17th August signed an agreement with the Hindustan Petroleum Corporation Ltd (HPCL) to form a joint venture company to set up a Rs 43,129 crore petroleum refinery-cum-petrochemical complex in the state's Barmer district. The Union government had given approval to the project on Wednesday. As per the agreement, HPCL will hold 74 per cent and the state government 26 per cent partnership in the new firm to be known as HPCL Rajasthan Refinery Ltd (HRRL).
Chief Minister Vasundhara Raje witnessed the signing ceremony at CM residence when Principal Secretary Mines and Petroleum Aparna Arora and Director (Finance) of HPCL J Ramaswami signed the joint-venture agreement respectively on behalf of the state government and the HPCL. She directed the officials to proceed further on the project on equally fast pace as soon as the environmental clearance was received from the Union Ministry of Environment. As per the proposed plan, the refinery project would be established in a 4,813 acres of land area. Tender process for the boundary wall for this has been initiated. The entire construction work of this project would be finished in record time of four years.

Maheshwari Chauhan wins bronze at Asian Shotgun Championship

Shooter Maheshwari Chauhan clinched a bronze medal in the women's skeet event of the Asian Shotgun Championship in Astana, Kazakhstan, last evening. The 21-year-old shot 40 in the finals to hand India its first women's skeet individual medal at a top international competition in Astana. Maheshwari made it to the knockouts by topping the qualification round with a score of 6875 on 11th August. 
She led a group of six shooters into the final round. Among them was teammate Rashmmi Rathore who qualified sixth with a score of 64. It was a quality top six in the final rounds having the likes of Olympic finalists and World Cup Gold medalists Meng Wei of China and Sutiya Jiewchaloemmit of Thailand among others. Meng is currently ranked four in the world while Sutiya is ranked fifth.
Maheshwari Chauhan is from Jalore district of Rajasthan and we are pround of her success

सांवरलाल जाट - किसान परिवारों ने अपना बेटा खो दिया

प्रो सांवरलाल जाट असल मायने में गुदड़ी के लाल थे। राजस्थान के एक साधारण किसान परिवार में जन्में सांवरलाल ग्रामीणों, गरीबों एवं किसानों के सच्चे मसीहा ही नहीं, भारतीय राजनीती में अपने सादे जीवन और जमीन से जुड़े होने के कारण एक श्रेष्ठ मिसाल थे। सांवरलाल जाट एक बहुत साफ़गो इंसान थे, एक किसान और ज़मीन से जुड़े नेता। उन्हें बेईमान राजनेताओं जैसी धूर्त हसीं एवं बेईमानी भरी चालाक भाषा नहीं आती थी। प्रोफेसर सांवरलाल जाट ने जीवन की शुरुआत बतौर कॉलेज व्याख्याता के रूप में की। मौजूदा फ़ेसबुक, ट्विटर, सूट-बूट एवं लेनिन के कड़क सफ़ेदी लिए महंगे वस्त्रों  वाले नेताओं के बीच बिना किसी सूट-बूट या डिज़ाइनर राजस्थानी वर्दी के सांवरलाल जाट ठेठ राजस्थानी ग्रामीण धोती साफे में रहने वाले गुदड़ी के लाल सही मायनों में आजीवन एक आम किसान ही थे। वे विश्वविद्यालय के प्रोफेसर थे, लेकिन एक किसान की तरह जिए और ऐसे ही राजनीति की। वे कभी चबा-चबाकर नहीं बोले एवं यही उनके जीने की शैली रही।
सांवरलाल जाट का राजनीतिक सफर
साँवरलाल जाट का जन्म 1 जनवरी 1955 को राजस्थान के अजमेर जिले के गोपालपुरा गाँव में हुआ था। उन्होंने वाणिज्य में स्नातकोत्तर करने के बाद राजस्थान विश्वविद्यालय में शिक्षक का कार्य भी किया था। वे सोहलवीं लोकसभा में अजमेर लोकसभा संसदीय क्षेत्र से भाजपा के सांसद थे। 20 दिसम्बर 2013 को उन्होंने राजस्थान के केन्द्रिय मंत्री की शपथ ग्रहण की। सांवर लाल का निधन 9 अगस्त 2017 को राजधानी दिल्ली में एक अस्पताल में हो गया। जब सांवरलाल जाट केंद्र में चमचमाते मोदी सरकार के मंत्रिमंडल से हटाए और वसुन्धरा सरकार ने उन्हें राजस्थान किसान आयोग का अध्यक्ष बनाया, तब उन्होने किसान आयोग को असल में किसानों की जगह बनाई अन्यथा यह केवल सरकारी बाबुओं का एक किसान प्रवेश निषेध कार्यालय ही बनकर रह गया था। सांवरलाल जाट के नवीन राजस्थान किसान आयोग दफ्तर की फिजा ही अलग थी यहाँ आप साफा पहने हुए किसान भी आसानी से देख सकते थे जिनमें हर कौम के किसान थे। अब शायद राजस्थान किसान आयोग फिर से ग्रामीण किसानों की पहुँच से दूर हो जाये तो कोई नई बात नहीं होगी।
किसान परिवारों ने अपना बेटा खो दिया
राजस्थान के किसान परिवारों ने निश्चित ही सांवरलाल जाट के रूप में अपना एक बेटा खो दिया। पूर्व केंद्रीय मंत्री, राजस्थान किसान आयोग के अध्यक्ष व सांसद श्री सावंरलाल जाट के निधन के साथ ही राजस्थान के किसानों की एक आवाज सदा के लिए बंद हो गयी। अगर सावंरलाल जी जाट के परिवार जनों के बाद आज सबसे अधिक क्षुब्ध है तो वो हैं, राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रों के किसान जिनका सरकार के साथ एक संवाद पुल ख़त्म हो गया। सावंरलाल जाट दलगत राजनीती से परे सदैव किसानों एवं ग्रामीणों के हितेषी रहे है। सावंरलाल जाट की जयपुर से गोपालपुरा, अजमेर के बीच श्रद्धांजलि सभा में उमड़ा किसानों एवं ग्रामीणों का जनसमूह उनके प्रति अपनेपन एवं प्यार का सबूत है। अजमेर संभाग के ग्रामीण क्षेत्र में 9 अगस्त को अचानक सुबह-सुबह सभी टीवी खोलते नज़र आये हमने में सही जानकारी के लिए टीवी खोला लेकिन वहां बीजेपी-कांग्रेस की गुजरात राज्यसभा के लिए खरीद-फरोख्त खबरें ही सरपट दौड़ रही थी, कुछ समय बाद शायद कोई प्रेस विज्ञप्ति के बाद ब्रेकिंग न्यूज चली लेकिन गावों में किसानों को आधे घंटे पहले ही पता चल गया था कि आज किसान परिवारों ने अपना एक बेटा खो दिया है या यूँ कहें राजस्थान की राजनीति में किसान राजनीति का अंतिम जिम्मेदार योद्धा अब नहीं रहा। 
दलित राजनीती की नई डगर 
एक सबसे बड़ी सीख अगर भाजपा एवं अन्य पार्टियों के नेताओं एवं आलाकमान को सांवरलाल जाट से लेनी हो तो वो है दलित राजनीती, जिसे राजनीतिक पार्टियां केवल नारों एवं जुमलों से साधने का प्रयास कर रही है। सांवरलाल जाट का एक प्रमुख वोट बैंक था दलित समाज जिसके वे बिना किसी नारे के सबसे नज़दीक थे या यों कहे उनके प्रमुख विश्वासपात्र दलित समाज के मित्र एवं कार्यकर्त्ता ही थे। अगर किसी राजनेता को सही मायने में दलित समाज का भला करना है तो वो फोटो-सैशन, जुमलों एवं बाबासाहेब अम्बेडर जी के गुणगान करके नहीं दलित समाज के साथ आत्मीयता के सम्बन्ध बनाने एवं साथ चलने से होता है। वे एक जाट थे एवं 36 कौम के सर्वमान्य नेता थे।  यह हरयाणा बीजेपी के कुछ संकीर्ण मानसिकता के साथ 35 कौम के नारे देने वाले छुटभैये नेताओं के लिए एक सीख भी है। 
राजनेताओं को सीख 
वे एक सज्जन और स्पष्टवादी इनसान थे साथ ही सरल व्यव्हार एवं साफ़गोई से बात रखने वाले राजनेता थे। वे अहम् मुद्दों पर आजकल के शातिर राजनेताओं की तरह धूर्तता से झूठ बोलने, भ्रामक प्रचार एवं सवालों से कन्नी काटकर बचने वाले राजनेताओं की तरह नहीं थे, आप उनसे जब चाहे मिल सकते थे एवं एक सच्चा जवाब पा सकते थे। जाति, धर्म एवं सांप्रदायिक ताकतें सांवरलाल जाट से स्वतः ही खौफ खाते थे, वे सही मायने में सबका साथ, सबका विकास को बिना किस जुमले एवं प्रचार के जीवन में अपनाने वाले व्यक्ति थे। अपने 30 साल से अधिक के राजनीतिक सफर में वे एक सच्चे एवं ईमानदार राजनेता थे, वरना आजकल तो छुटभैये नेता भी सफेदपोश बन अवैध खनन, जमीन हड़पना, कब्जे करना एवं धार्मिक वैर-वैमन्य फैलाना सरीखे कार्यों को राजनीती की पहली सीढ़ी समझते हैं जो निश्चित ही निंदनीय हैं एवं राजनेताओं को जनता से दूर ले जा रही है। आशा करते हैं, इस माटी के लाल सांवरलाल से सभी राजनेता कुछ सबक लेंगें। 

प्रो. सांवरलाल जाट का अंतिम संस्कार मुख्यमंत्री ने प्रो. जाट को दी अंतिम विदाई

मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे, केन्द्र व राज्य के कई मंत्रियों तथा हजारों लोगों ने गुरूवार को नम आंखों से पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं राज्य किसान आयोग के अध्यक्ष प्रो. सांवरलाल जाट को अंतिम विदाई दी। प्रो. जाट के पैतृृक गांव अजमेर के गोपालपुरा में राजकीय सम्मान के साथ उनकी अंत्येष्टि की गई। उनका बुधवार को नई दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया था। श्रीमती राजे ने प्रो. जाट के परिजनों से मुलाकात कर उन्हें सांत्वना दी और दु:ख की इस घड़ी में उन्हें सम्बल प्रदान करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की। इससे पहले मुख्यमंत्री ने प्रो. जाट के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित किया। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की ओर से राज्यसभा सांसद श्री भूपेन्द्र यादव ने पुष्पचक्र अर्पित किया।
किसान नेता के रूप में विख्यात रहे प्रो. जाट का पार्थिव शरीर गुरूवार को जयपुर से उनके पैतृक गांव गोपालपुरा लाया गया था। इस बीच रास्ते में दर्जनों स्थानों पर जन समूह ने अपने प्रिय नेता के अंतिम दर्शन कर उन्हें विदाई दी। गोपालपुरा में उनके निवास पर धार्मिक रीति रिवाज के बाद पार्थिव शरीर को गांव में ही श्मशान स्थल पर लाया गया। जहां हजारों लोगों ने सांवरलाल अमर रहे,  जब तक सूरज चांद रहेगा, सांवरलाल तेरा नाम रहेगा, अजमेर का एक ही लाल सांवरलाल-सांवरलाल जैसे नारों के साथ उन्हें अंतिम विदाई दी। प्रो. जाट के पार्थिव शरीर को उनके पुत्र कैलाश और रामस्वरूप सहित अन्य परिजनों ने मुखाग्नि दी। मुख्यमंत्री श्रीमती राजे ने गोपालपुरा पहुंचकर प्रो. जाट की धर्मपत्नी श्रीमती नर्बदा देवी से मुलाकात की और उन्हें सांत्वना दी। 

Former Union minister Sanwarlal Jat passes away at 62

Sanwar Lal Jat (62), former Union Minister and BJP MP from Ajmer, passed away at 6.15 a.m. on Wednesday at the All India Institute of Medical Sciences (AIIMS) in New Delhi, a senior official of the hospital said. According to doctors at the AIIMS, Mr. Jat had a cardiac arrest, which caused a damage to his brain and he was on ventilator. Mr. Jat had served as Minister of State for Water Resources in the Narendra Modi government.
Prime Minister Modi condoled with the passing away of the leader. “Anguished by the demise of MP & former Union Minister, Shri Sanwar Lal Jat. This is a big loss for the BJP & the nation. My condolences,” he tweeted. Mr. Modi also said Mr. Jat worked extensively for the wellbeing of villages and farmers. The BJP MP collapsed during a meeting chaired by party president Amit Shah in Jaipur last month. He was admitted to the Intensive Care Unit (ICU) of Sawai Man Singh Hospital there and later airlifted to the AIIMS.

फेस्टिवल ऑफ एजूकेशन 2018 उदयपुर में होगा

आगामी फेस्टिवल ऑफ एजूकेशन अगले वर्ष 2018 में उदयपुर में आयोजित किया जायेगा।  शिक्षा मंत्री श्री वासुदेव देवनानी ने फेस्टिवल ऑफ एजूकेशन के विभिन्न सत्रों में हुये संवाद में अन्य देशों से आये प्रतिभागियों जनप्रतिनिधियों, शिक्षाविदों एवं गणमान्य जनों का आभार जताते हुए कहा कि इस उत्सव के दूरगामी परिणाम आयेंगे। 
उन्होंने कहा कि राजस्थान देश का पहला राज्य है जिसने शिक्षा से जुड़े इस ग्लोबल उत्सव की पहल की है। श्री देवनानी ने मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे की दूरदर्शी सोच की सराहना करते हुए कहा कि बदलते हुए दौर में राजस्थान शिक्षा क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ेगा। 

Rahul Gandhi visit flood-hit Jalore in Rajasthan

Congress vice president Rahul Gandhi on Friday met people in Rajasthan’s flood-hit areas and claimed that the relief efforts of the state government had not reached all the affected places. Gandhi conducted an aerial survey of the affected areas in Barmer, Jalore, Sirohi and Pali and met people in Dedwa, Dawal, Amli, Hadecha and Kachel villages, whom he assured all help. The government’s responsibility was to provide succour to the people but there were no proper relief at some places, the Congress vice president said, in an apparent attack on the BJP-led state government, in Jalore. Normal life in Jalore, Pali and Sirohi districts has been badly affected due to heavy downpour.
Several shelter camps have been set up by the district administration and other social organisations in Jalore and Barmer where food and water are being supplied The Congress leader is accompanied by PCC president Sachin Pilot, former chief minister Ashok Gehlot and other leaders and party workers. 

Rajasthan CM visits flood-affected Regions

Chief Minister Smt. Vasundhara Raje has said that the state government would plan and propose permanent solution to reduce damages due to floods in the affected regions. She said that in certain districts there were regions with frequent tendency of floods keeping life out gear and causing damages to the property. A permanent solution would be provided to save regions, she said talking to journalists in Jalore and Sirohi on Monday. Smt. Raje said that soon after assessing the flood-like situation in districts with heavy rains, she dispatched the in-charge ministers and secretaries to affected regions. They were continuously meeting the flood-victims and helping in relief and rescue operations. 
The CM said that the local district administration, police, NDRF, SDRF, Army, CRPF and Homeguards were carrying out day and night relief and rescue works with full cooperation to each other. From wherever any information was received for persons trapped in flood waters or with no food and other essentials, the relief workers were responding promptly to help them. Till date, helicopters of Indian Air Force had saved 42 lives, while more than 11,000 persons were taken to safe places across the state.  During a review of flood situation and relief works, Chief Minister directed the officials to distribute food items and other essentials of civil supplies in the 'offline' mode without POS machines.

अजीत सिंह शेखावत बने राजस्थान के नए पुलिस महानिदेशक (DGP)

अजीत सिंह शेखावत 31 जुलाई को राजस्थान के नए पुलिस महानिदेशक (DGP) बने हैं। इस पद के लिए ये सरकार की पहली पसंद थे। हालांकि, इसी नवंबर को रिटायर हो रहे हैं। सोमवार को मनोज भट्ट रिटायर हुए तो शाम तक सरकार ने प्रदेश की पुलिस को नया मुखिया दे दिया।  नए डीजीपी के लिए डीजी जेल अजीत सिंह, सुधीर प्रताप सिंह, ओपी गल्होत्रा के नाम चर्चा में थे। डीजीपी जेल अजीत सिंह शेखावत इससे पहले डीजी जेल थे। अजीत सिंह 1982 बैच के हैं अधिकारी हैं। इससे पहले कहा जा रहा था कि राजपूत कम्युनिटी में भाजपा को लेकर नाराजगी है, उस नाराजगी को दूर करने और राजनीतिक लाभ के लिए अजीत सिंह शेखावत को मौका दिया जा सकता है औऱ अब उन्हें डीजीपी बना दिया गया।
वर्तमान महानिदेशक पुलिस श्री मनोज भट्ट भी 31 जुलाई को सेवानिवृत्त हुए, इस अवसर पर पुलिस मुख्यालय में आयोजित भव्य समारोह में परम्परागत रस्म अदा करते हुए पुलिस अधिकारियों एवं जवानों ने उनकी कार को रस्सों से खींचकर भावभीनी विदाई दी।  पुलिस महानिदेशक ने अपने विदाई समारोह में उपस्थित पुलिस अधिकारियों एवं कार्मिकों को संबोधित करते हुए कहा कि राजस्थान पुलिस पर देश प्रदेश की आंतरिक सुरक्षा की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है। मुझे गर्व है कि पुलिस महानिदेशक के पद पर रहते हुए मैंने अपने दायित्वों को पूरी जिम्मेदारी के साथ निभाने का प्रयास किया।  उन्होंने अपनी 36 साल की सेवाकाल के अनुभव साझा करते हुए बताया कि पुलिस विभाग के सभी अधिकारियों ने मेरे साथ हमेशा दोस्ताना एवं सहयोगात्मक व्यवहार निभाया है,इसके लिये मै उनका हद्य से आभारी हूॅं। उन्होंने राजस्थान पुलिस के इतिहास और परम्परा को गौरवशाली बताया। 

ग्राम सेवक भर्ती में सफल अभ्यर्थियों के मूल प्रमाण पत्रों की जांच 8 अगस्त से

ग्राम सेवक एवं पंचायत सचिव सीधी भर्ती प्रतियोगी परीक्षा-2016  में अस्थायी रूप से सफल घोषित अभ्यार्थियों के मूल प्रमाण पत्रों की जांच 8 से 18 अगस्त, 2017 तक प्रातः 10 बजे से सांय 5 बजे तक इन्दिरा गांधी पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास संस्थान, जे.एल.एन. मार्ग, जयपुर में होगी। 
ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के अतिरिक्त, आयुक्त श्री राजेन्द्र शेखर मक्कड़ ने बताया कि उक्त परीक्षा में सफल घोषित अभ्यार्थी को स्वयं उपस्थित होकर अपने दस्तावेजों का सत्यापन करवाना होगा । उन्होंने बताया कि इस संबंध में सम्पूर्ण जानकारी पंचायती राज विभाग की वेबसाईट ww.rajpanchayat.rajasthan.gov.in तथा राजस्थान अधीनस्थ एवं मंत्रालयिक सेवा चयन बोर्ड, जयपुर की वेबसाईट www.rsmssb.rajasthan.gov.in पर देख सकते हैं।

सांसद सांवरलाल जाट को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली के AIIMS अस्पताल भेजा

27 जुलाई: राज्य किसान आयोग के अध्यक्ष और अजमेर सांसद श्री सांवरलाल जाट को आज को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली के एम्स हॉस्पीटल के लिए रवाना किया गया। सवाईमानसिंह अस्पताल के अधीक्षक डॉ. डी.एस. मीना ने बताया कि श्री जाट को गुरूवार की दोपहर सवाई मानसिंह अस्पताल से ग्रीन कोरिडोर बनाकर महज 10 मिनट में स्टेट हैंगर लाया गया। यहां से उन्हें दोपहर 1.30 बजे रेलीगेयर की एयर एंबुलेंस के जरिए दिल्ली भेजा गया। उनके साथ उनकी बेटी डॉक्टर सुमन और चिकित्सकों का एक दल भी गया है। 
इससे पहले बुधवार काे कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट व नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी ने एसएमएस जाकर डॉक्टर्स से जाट के स्वास्थ्य की जानकारी ली। इस दौरान वे एसएमएस में भर्ती विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल से मिले और कुशलक्षेम पूछी। पायलट ने जाट के जल्द स्वस्थ होने की कामना की। 

कमांडो सोहन सिंह स्वस्थ होकर जयपुर लौटे

गैंगस्टर आनंदपाल को गोली मारने वाले जाबांज कमांडो सोहन सिंह हालत में सुधार होने के बाद आज शाम जयपुर लौट आए है। सोहन सिंह का गुडगांव के मेदांता हॉस्पिटल में इलाज चल रहा था, जहां उनकी तबीयत में सुधार आने के बाद आज उन्हें जयपुर के फोर्टिस अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। करीब 14 दिनों तक एसएमएस अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान सोहन सिंह के सेप्टिसिमिया और फेंफडों में इंफेक्शन फैलने से तबीयत गंभीर बिगड़ गई। तब सोहन सिंह को एयर एंबुलेंस की मदद से गुड़गांव स्थित मेदांता अस्पताल भेजा गया था।
गौरतलब है कि 24 जून को चुरू जिले के मालासर में एक घर की छत से जब गैंगस्टर आनंदपाल एके 47 राईफल से जब गोलियां बरसा रहा था, तब राजस्थान पुलिस की इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम के कमांडो सोहन सिंह ने बहादुरी दिखाई।इस एनकाउंटर में शामिल पुलिस अफसरों का कहना है कि अगर सोहनसिंह आनंदपाल को गोली दागने में कुछ सेकंड की चूक करता तो एनकाउंटर टीम के कई अफसर और कमांडो गैंगस्टर की गोलियों का शिकार हो सकते थे।  उन्होंने अपनी एक गोली से आनंदपाल को ढेर कर दिया था। इसके अलावा पुलिस टीम की भी जान बचाई।

बाबा खरताराम जाट का निधन

जैसलमेर जिले के प्रमुख किसान नेता खरताराम जाट "बाबा " का जोधपुर स्थित डऊकिया अस्पताल में निधन हो गया। कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे खरताराम चौधरी, 98 वर्ष के थे एवं लम्बे समय से बीमार चल रहे थे। उनका अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव भणियाणा में शनिवार को होगा। 
समाज सेवी रेवीदान चौधरी के यहां जन्मे खरताराम जी समाज में "बाबा" नाम से प्रसिध्द थे विराट व्यक्तित्व के धनी खरताराम ने सर्वप्रथम पोकरण ठिकाने को लगान देना बंद किया और इस हेतु सर्वोच्च न्यायालय तक मुकदमा लडा एवं सामंतवाद पर विजय पाकर क्षेत्र के किसानों को राहत दिलायी थी। मात्र अक्षर ज्ञान प्राप्त एवं पेशे से पशुपालक व किसान खरताराम जी ने भणियाणा में साठ के दशक में किसान छात्रावास की स्थापना की एवं समाज में सेवा भाव से जागृति की अलख जगाई। वे भणियाणा ग्राम सेवा सहकारी समिति और जैसलमेर क्रय विक्रय सहकारी संघ के लम्बे समय तक अध्यक्ष रहे।

Robbers loot Rs 15 lakh from UCO Bank branch in Jaipur

Armed robbers looted Rs 15 lakh at gunpoint from a bank in UCO Bank's Rajapark branch in Rajasthan's capital Jaipur on 20th July 2017. Two robbers were caught on CCTV entering the bank. They were wearing caps. One of them was using a handkerchief to cover his face.
Preliminary investigation revealed that the bank branch doesn’t have any security guard. “At 9.30am, soon after the bank opened, two men with their faces covered, entered the premises. They took a sanitation worker and a specially-abled bank official hostage at gunpoint,” said assistant commissioner of police, Adarsh Nagar, Madan Singh. Over next 45 minutes, an unbelievable drama unfolded as the robbers kept taking people who entered the bank hostage.“The main entrance to the bank was open. As the staff members came in, they were taken hostage by the robbers,” said Singh.

Government allows CBI probe into Anandpal and Surendra Singh's Death

Rajasthan Government Allows CBI Probe into Anandpal & Surendra Singh’s Death, Twenty-five days since Anandpal Singh’s death in a police crossfire. Surendra Singh, the victim of Sanvarad violence, was a guard at Bhagatpura’s Shree Cement plant in Pali district. The only son of his parents, Surendra had gone to attend Anandpal Singh’s funeral on April 24, on the appeal of Rajput leaders. He became a victim of vicious caste politics.
As per the agreement, government will refer two cases - Anandpal's death on June 24 and death of Surendra Singh in a firing at Sanvarad on July 12 to CBI. State government will also provide compensation, as per norms, to deceased and injured during protests. "Two FIRs have been registered, one in Ratangarh and other one in Sanvarad. Both cases will be recommended to CBI and they will decide on further course of action" said home minister Gulabchand Kataria.

नदी में बहे कुशलगढ़ एसडीओ की बॉडी मिली

बाँसवाड़ा जिले में शुक्रवार सुबह कुशलगढ़ उपखण्ड अधिकारी के वाहन सहित बह जाने के प्रकरण में हादसे के 48 घंटों के बाद रविवार को सुबह एसडीओ रामेश्वरदयाल की बॉडी मिली।  रविवार को सुबह एनडीआरएफ व एसडीआरएफ दल तथा स्थानीय गोताखोरों के दल व ग्रामीणों को मिलाकर सैकड़ों लोगों ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया था कि ग्रामीणों द्वारा नदी के बहाव क्षेत्र में 10 किलोमीटर दूरी पर एसडीओ की बॉडी दिखाई देने की सूचना प्राप्त हुई। इस पर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और बॉडी को निकलवाया गया। इसके बाद कलक्टर श्री भगवीप्रसाद, एसपी श्री कालूराम रावत भी मौके पर पहुंचे और परिजनों से बात करते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया गया।  
ग्रामीण विकास, पंचायती राज, संसदीय मामलात और निर्वाचन विभाग के राज्यमंत्री श्री धनसिंह रावत, पीएचईडी राज्यमंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्री सुशील कटारा, जिला कलक्टर श्री भगवतीप्रसाद तथा जिला पुलिस अधीक्षक श्री कालूराम रावत ने कुशलगढ़ एसडीओ रामेश्वरदयाल मीणा के साथ हुए हादसे को दुखद बताया है। उन्होंने दिवंगत मीणा को हार्दिक श्रद्धांजलि अर्पित की है और परिवारजनों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त की हैं। 

राजस्थान के सुंदर सिंह गुर्जर ने वर्ल्ड पैरा एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में गोल्ड जीता

राजस्थान के भाला फेंक खिलाड़ी सुंदर सिंह गुर्जर ने 15 जुलाई को आईपीसी पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2017 में भारत को पहला पदक दिलाया।पैरालंपिक स्वर्ण पदक विजेता देवेंद्र झझारिया की गैरमौजूदगी में सुंदर ने 60.36 मीटर के निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के साथ सोने का तमगा अपने नाम किया और विश्व चैंपियन बने। श्रीलंका के दिनेश प्रियांथा हेराथ 57.93 मीटर के साथ दूसरे जबकि पूर्व चैम्पियन चीन के गुओ चुनलियांग सीजन के अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 56.14 मीटर के साथ तीसरे स्थान पर रहे।
राजस्थान के करौली जिले से आने वाले सुंदर ने रियो पैरालम्पिक के लिए भी बड़ी तैयारी की थी लेकिन सुंदर रियो 2016 में तकनीकी कारणों से डिस्क्वालीफाई हो गए थे। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने वल्र्ड पैरा एथलेटिक्स चैम्पियनशिप-2017 की जैवलिन थ्रो स्पर्धा में गोल्ड मेडल जीतने पर प्रदेश के पैरा एथलीट श्री सुंदर गुर्जर को बधाई दी है। 

Nationwide Emergency Response System established under Nirbhya Fund

Central Government has envisioned to establish a nation wide Emergency Response System(NERS) comprising an integrated Computer Aided Despatch(CAD) platform under Nirbhya Fund. Under this system at least one call center has to be establish in each State and Union Territory.  Department of Telecommunication allocated "112" number as the Single Emergency Response number for all over the country. The State Apex Committee, State Steering Committee and District Mission Committee are constituted for implementing the NERS project at the State level.
Rajasthan government established State Apex Committee under the chairmanship of Chief Secretory. Principal Secretory, Home, Disaster Management, Woman and child Development, Health, DOIT&C, Representative from NIC and MHA as member and Additional Director general of Police (Telecommunication & Technical) as its (NERS) nodal officer of the Committee. State Apex Committee is responsible of giving approval at highest level of the State, the committee would be responsible for over all project implementation, review progress of project, for decision regarding adding new services/help lines in the NERS.

फिरदौश कायमखानी - राजस्थान की प्रसिद्ध तैराक

पुणे में जूनियर नेशनल स्वीमिंग प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल प्राप्त करने वाली राजस्थान की पहली खिलाड़ी फिरदौश कायमखानी ने 12 जुलाई को राजस्थान मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से उनके निवास पर मुलाकात की। सुश्री फिरदौश ने 19 बार नेशनल प्रतियोगिताओं में भाग लेकर अनेक सिल्वर एवं गोल्ड मेडल जीत कर राजस्थान का नाम रोशन किया है।
भीलवाड़ा जिले की शाहपुरा निवासी फिरदौस कायमखानी ने 3-6 जुलाई तक पुणे में आयोजित 44वें राष्ट्रीय जूनियर स्विमिंग कॉम्पीटिशन में इन्डिविजुअल मेडले 400 मी. में स्वर्ण पदक, बटरफ्लाई 200 मी. में रजत एवं बटरफ्लाई 100 मी. में कांस्य पदक प्राप्त किया है।